गोमेद रत्न की सरल पहचान 7 फायदे और 4 नुकसान

Table of Contents show

गोमेद रत्न की विशेषताएं तथा धारण ( पहनने )करने के लाभ | Significations & Benefits of Hessonite or Gomed Gemstone 

गोमेद को वैदिक ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से कई तरह का बताया गया है। यदि हम सबसे पहले बात करें कि गोमेद रत्न का स्वामी कौन है तो ज्योतिषीय मतानुसार गोमेद रत्न को राहु का रत्न कहा जाता है। यह एक गार्नेट समूह का रत्न होने के कारण इसे हिन्दी में गोमेद कहते हैं जबकि अंग्रेजी में इसका नाम ” हैसोनाइट स्टोन ” होता है।

यह रत्न सामान्य रूप से शहद के रंग जैसा होता है परंतु यह चटक भूरे या तो फिर लाल रंग का महसूस होता है। यह रत्न सभी रत्नों से ज्यादा ताकतवर होता है क्योंकि इस रत्न में निर्दयी और शक्तिशाली राहु ग्रह का बल होता है। इस रत्न का आज के समय में सबसे ज्यादा महत्व माना जाता है,क्योंकि यह रत्न सभी रत्नों में से सबसे ज्यादा प्रभावशाली रत्न माना गया है।

गोमेद रत्न जातक की कुंडली में उत्पन्न राहु ग्रह के बुरे दोषों को भी समाप्त करता है। अतः मैं आपको बताऊंगा की यह रत्न किस राशि के लिए शुभ रहता है और किस राशि के लिए अशुभ, इस रत्न को धारण [ पहनने ] करने से जातक को क्या-क्या फायदे होते हैं और क्या-क्या नुकसान तथा किस विधि अनुसार इसे पहनना चाहिए यह भी हम आपको नीचे दिए गए लेख में बताएंगे।ऐसे जातक जो अपनी मर्जी अनुसार गोमेद धारण करना चाहते हैं वो एक बात हमेशा याद रखें की इस दुनिया में पाए जाने वाले सभी रत्नों के अपने-अपने फायदे व नुकसान होते हैं इसलिए गोमेद रत्न धारण करने से पहले अपने किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्य की सलाह अवश्य ले लें ।

यदि आप बिना सलाह के गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone) धारण करते हैं तो आपको इसके बुरे प्रभाव भी सहने पड़ सकते हैं । इसलिए मेरा मानना है की यह रत्न अपनी मर्जी से धारण न करें। यदि हम साधारण तरीके से आपको समझाएँ तो यह गोमेद मुख्यता राहु ग्रह से संबंधित दोषों को दूर करने के लिए धारण किया जाता है। ऐसे जातक जो धन में बढ़ोत्तरी, भाग्यवान होने और सफल व्यक्ति बनने की इच्छा रखते हैं उन्हे यह रत्न धारण तो करना चाहिए परंतु किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य की सलाह से। 


आपको इस लेख में इन सभी के जबाब भी आसानी से मिल जाएंगे। 

  • Gomed ratna ke labh 
  • Gomed ratna ke bare mein 
  • Gomed ratna ke kya fayde hain
  • Gomed ratna ke fayde
  • Gomed ratn ke fayde aur nuksan 
  • Gomed ratna ke labh in hindi 

  • गोमेद के फायदे
  • गोमेद के नुकसान
  • गोमेद की कीमत क्या है
  • गोमेद किस उंगली में पहनना चाहिए
  • गोमेद की कीमत कितनी है
  • गोमेद कितने रत्ती का पहनना चाहिए
  • गोमेद किस धातु में पहनना चाहिए
  • गोमेद किसे पहनना चाहिए
  • गोमेद पहनने की विधि
  • गोमेद स्टोन की कीमत 

अन्य सभी रत्नों के बारें में भी पढ़ें। 


गोमेद रत्न की तकनीकी संरचना | Astrological Benefits of Hessonite Or Gomed Gemstone

गोमेद प्रकृति में पाया जाने वाला एक अनोखा रत्न कहा जाता है क्योंकि यह सभी रत्नो में से सबसे ज्यादा प्रभावशाली व शक्तिशाली रत्न माना जाता है। गोमेद रत्न को वैज्ञानिक रासायनिक सूत्र ( Ca3al2 { SiO4 }3 ) कैल्शियम एलुमिनियम कहते हैं। गोमेद को वैज्ञानिकों के अनुसार कैल्शियम एलुमिनियम का मिश्रण रूप भी माना जाता है। गोमेद रत्न का घनत्व 3.65 होता है तथा अपवर्तक सूचकांक में इस रत्न की सीमा 1.742 से लेकर 1.748 तक होती है। गोमेद (हैसोनाइट स्टोन – Gomed Gemstone or Hessonite Stone) को गार्नेट समूह का रत्न माना जाता है। इस प्रकृति में पाई जाने वाली चूने के खाद्यानों में से ही गोमेद रत्न की प्राप्ति होती है। इसी कारण कई बार गोमेद रत्न को चूने का रत्न कहा जाता है। 


गोमेद रत्न के फायदे | Benefits of Hessonite or Gomed Gemstone

इस प्रकृति में पाए जाने वाले सभी रत्नों के जितने फायदे होते हैं उससे कई गुना ज्यादा नुकसान भी होते हैं यदि जातक किसी भी रत्न को बिना किसी ज्योतिषी की सलाह अनुसार पहनेगा तो मेरा मानना है कि उसे नुकसान होगा क्योंकि जब तक यह निश्चित नहीं होगा की आपके लिए कोन सा रत्न सही है और कौन सा गलत। अब अगर मैं गोमेद रत्न की बात करूँ तो यह राहु का रत्न है। यानी कि गोमेद का स्वामी राहु है। यदि आप गोमेद रत्न पहनना चाहते हैं तो आप सबसे पहले यह देख लें कि आपकी कुंडली में राहु किस चरण में है, राहु यदि पहले, चौथे, पांचवें, नौवें या दसम भाव में है तो आपके लिए गोमेद रत्न पहनना शुभ होगा परंतु गोमेद या अन्य किसी रत्न को धारण करने से पहले अपने किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्य की सलाह अवश्य ले लें। गोमेद राहु का रत्न होने के कारण बहुत ही प्रभावशाली और शक्तिशाली रत्न माना जाता है, क्योंकि यह जातक के लिए कभी-कभी बेहद लाभकारी सिद्ध होता है। गोमेद में राहु के शुभ प्रभाव से शारीरिक, मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक मामलों में लाभ होता है। यदि आप गोमेद के लाभ ( फायदे ) जानना चाहते हैं तो नीचे दिये गए बिन्दुओं को ध्यान पूर्वक पढ़ें।   

  • गोमेद रत्न कालसर्प दोष से पीड़ित जातकों के लिए बेहद लाभकारी सिद्ध होता है। अगर यह रत्न किसी जातक के लिए अच्छा साबित होता है तो यह जातक को कालसर्प दोष से होने वाले दुष्प्रभावों से बचाने में उसकी मदद करता है। 
  • ऐसे जातक जो शासन के कार्य में हैं, राजनीतिज्ञ, जनता के हित में कार्य करने वाले अथवा दलाली से संबंधित व्यापार करने वालों के लिए गोमेद रत्न फायदेमंद साबित होता है क्योंकि इसके शुभ प्रभाव से जातक को शक्ति, धन और सफलता की प्राप्ति होती है। 
  • गोमेद रत्न उस जातक के लिए सबसे ज्यादा लाभकारी होता है जिसकी कुंडली में राहु की महादशा और अंतर्दशा चल रही हो। ऐसे में गोमेद राहु ग्रह के बुरे प्रभावों से जातक को बचाता है। 
  • ऐसे जातक जो वस्तुओं के बनने बिगड़ने और पेट से जुड़ी समस्याओं से परेशान है तो उनके लिए गोमेद पहनना फायदेमंद होता है। क्योंकि गोमेद स्वास्थ्य और शक्ति का प्रतीक माना जाता है। 
  • गोमेद धारण करने से जातक को अपने शत्रुओं को पराजित करने की शक्ति और मन में उत्पन्न होने वाले बुरे विचारों से मुक्ति मिलती है।  
  • गोमेद रत्न धारण करने से जातक के मन में संदेह ( भ्रम ) की स्थिति कम होती है और अच्छे विचारों का वास होता है। गोमेद के प्रभाव से जातक को राहु ग्रह की दशा अवधि में सुख मिलता है। 
  • गोमेद धारण करने से जातक के मन में उत्पन्न होने वाला डर खत्म होता है और किसी भी कार्य को करने के प्रति शक्ति, सीख और आत्मविश्वास बढ़ता है। 

गोमेद रत्न के नुकसान | Hessonite or Gomed Gemstone Disadvantages

इस पूरे ब्रह्मांड में जितने भी रत्न पाए जाते है उन सभी रत्नों के जितने फायदे होते है उससे कई गुना ज्यादा नुकसान होते है। ज्योतिषीय मतानुसार ग्रह एवं नक्षत्रों के नाराज होने पर जातक के जीवन में अचानक कई परेशानियां आना शुरू हो जाती हैं तो ग्रहों की नाराजगी से बचाव के लिए अनुभवी ज्योतिष रत्न पहनने की सलाह देते हैं। कभी-कभी अपनी मर्जी से रत्न पहनने की वजह से लाभ की जगह हानि होना शुरू हो जाती है। अब मैं गोमेद के बारे में आपको बताता हूँ। गोमेद राहू से संबंध रखने वाला रत्न है, यदि आप जानते हो तो आपको पता होगा की राहु ग्रह एक निर्दयी ग्रह है, जिसका रत्न गोमेद अपनी मर्जी से पहनना आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए मैं आपको गोमेद बिना किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्य की सलाह लिए बगैर न धारण करने की सलाह देता हूँ। 

अब गोमेद के नुकसान जानने के लिए नीचे दिए गए बिन्दुओं को ध्यान पूर्वक पढ़ें। 

  • मान्यताओं के अनुसार यदि महिला जातक गोमेद धारण करती है और गोमेद अधिक चमकीला न हो तो उसे गोमेद के बुरे प्रभाव देखने को मिलते हैं। 
  • कभी-कभी ऐसा भी माना जाता है कि नकली या कम चमकीला गोमेद धारण करने से जातक की मान-प्रतिष्ठा और उद्वेग में कमी आती है।
  • जातक यदि मिश्रित रंगों वाला गोमेद धारण करता है या तो फिर सुंदर दिखने के कारण नकली रत्न पहनता है तो जातक को अपने स्वास्थ्य में कमी और आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ सकता है। 
  • जातक यदि दाग-धब्बों वाला गोमेद रत्न पहनता है तो जातक का भाग्य बुरा या तो फिर वाहन आदि से दुर्घटना का शिकार हो सकता है। जो साफ नज़र आती है धब्बायुक्त गोमेद धारण करने से। 

गोमेद कितने रत्ती का पहनना चाहिए | How much Carat of  Hessonite or Gomed Gemstone Should we wear

वैदिक ज्योतिष के मतानुसार जातक को गोमेद रत्न कम से कम 4 रत्ती का धारण करना चाहिए, क्योंकि यह राहु का रत्न है इसलिए जातक को अपने वजन अनुसार रत्न धारण करना बेहद अच्छा साबित होगा। जैसे माना की आपका वजन 60 किलोग्राम है तो 6 रत्ती का ओपल धारण करना आपके लिए बेहद लाभकारी सिद्ध होगा। जातक गोमेद 4 रत्ती से लेकर 13 रत्ती तक धारण कर सकता है परन्तु याद रहे की 7, 10 और 13 से अधिक रत्ती का गोमेद पहनना हानिकारक हो सकता है। और सबसे मत्वपूर्ण बात यह है की आप गोमेद अपनी मर्जी से न पहनें अन्यथा आपको हानि का सामना करना पड़ सकता है। 

[ नोट– यदि आप किसी भी समस्या या अपनी कुंडली के बारे में जानना चाहते हैं तथा आपके लिए कौन सा रत्न शुभ है और कौन सा रत्न अशुभ इसके लिए आप हमारे ज्योतिष आचार्य दीपांशु जी से संपर्क करें व्हाट्सएप पर- 9463334040 ]


गोमेद रत्न का 12 राशियों पर प्रभाव | Impact of Hessonite or Gomed Gemstone on 12 Rashi

इस पूरे ब्रह्मांड में पाए जाने वाले सभी रत्नों के किसी न किसी राशि पर अलग-अलग प्रभाव देखने को मिलते है। ठीक उसी प्रकार हम आपको गोमेद रत्न का 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ता है यह बताएँगे।

जो इस प्रकार हैं- 

मेष राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Aries sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

यदि मेष राशि का जातक गोमेद रत्न धारण करना चाहता है तो वह सबसे पहले अपनी कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्य को दिखा ले ताकि यह पता चल जाए की आपकी कुंडली में राहु ग्रह की दशा चल रही है या नही। यदि राहु की दशा आपकी कुंडली में चल रही हो और वह आपकी कुंडली के द्वितीय, तृतीय, दसम या तो फिर एकादश भाव में स्थित हो, तो आप गोमेद धारण कर सकते हैं। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


वृषभ राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Taurus sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

यदि वृषभ राशि का जातक गोमेद रत्न धारण करना चाहता है तो वह सबसे पहले अपनी कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्य को दिखा ले ताकि यह पता चल जाए की आपकी कुंडली में राहु किस भाव में स्थित है। यदि राहु आपकी कुंडली के तृतीय, षष्ठम, नवम, दसम या फिर एकादश भाव में स्थित है, तो आप विधि अनुसार गोमेद धारण कर सकते हैं। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


मिथुन राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Gemini sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

यदि मिथुन राशि का जातक गोमेद रत्न धारण करना चाहता है तो वह अपनी कुंडली सबसे पहले किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्य को दिखा ले ताकि यह पता चल जाए की आपकी कुंडली में स्थित राहु किस भाव में है। यदि राहु आपकी कुंडली के प्रथम, षष्ठम, नवम या एकादश भाव में है तो आप गोमेद पहन सकते हैं। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


कर्क राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Cancer sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

यदि कर्क राशि के जातक गोमेद रत्न धारण करना चाहते हैं तो याद रहे वही जातक गोमेद धारण कर सकते हैं जिनकी कुंडली के तृतीय, दसम या एकादश भाव में राहु स्थित है। ऐसे सभी जातक गोमेद तीन दिन तक ट्रायल के तौर पर पहन सकते हैं, परंतु याद रहे की इस गोमेद को अपनी कुंडली में चल रही राहु की दशा तक ही पहन कर रखना है और उसके बाद उतार के रख दें, नाकी आप उसे हमेशा पहन कर रखें। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


सिंह राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Leo sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

सिंह राशि के जातक यदि गोमेद रत्न धारण करना चाहते हैं तो सिर्फ वे जातक इस रत्न को धारण कर सकते हैं जिनकी कुंडली में राहु तृतीय, षष्ठम, दसम या एकादश भाव में स्थित है, यदि आपके मन में कोई शंका उत्पन्न हो तो आप इस रत्न को तीन दिन तक पहन कर चेक कर सकते हैं। एक विशेष बात याद रखें गोमेद सिर्फ आपकी कुंडली में चल रही राहु की दशा तक ही पहना जाता है ना कि हमेशा के लिए यदि आप इसे पहन के रखते हैं तो आपको परेशानी हो सकती है। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


कन्या राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Virgo sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

कन्या राशि के जातक यदि गोमेद रत्न धारण करना चाहते हैं तो याद रहे कि आपकी कुंडली में राहु प्रथम, पंचम, षष्ठम या दशम भाव में स्थित होना चाहिए। तभी आपके लिए गोमेद अच्छा साबित होगा अन्यथा आपको समस्या का सामना करना पड़ सकता है। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


तुला राशि के जातक के गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Libra sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

यदि तुला राशि के जातक गोमेद रत्न धारण करना चाहते हैं तो याद रहे आपकी कुंडली के प्रथम, षष्ठम या दसम भाव में राहु स्थित होना चाहिए तभी आप गोमेद धारण कर सकते हैं परंतु सिर्फ परीक्षण के तौर पर तीन दिन के लिए ही पहन सकते हैं। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


वृश्चिक राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Scorpio sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

वृश्चिक राशि के जातक यदि गोमेद रत्न धारण करना चाहते हैं तो याद रहे आपकी कुंडली के तृतीय, षष्ठम, सप्तम, दसम या एकादश भाव में राहु स्थित होना चाहिए तभी आप गोमेद धारण कर सकते हैं। परंतु याद रखें की आप यह गोमेद सिर्फ परीक्षण के तौर पर राहु की दशा अवधि तक ही धारण कर सकते हैं न कि जीवन भर इसे पहन के रखें। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


धनु राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Sagittarius sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

धनु राशि के जातक यदि गोमेद रत्न धारण करना चाहते हैं तो याद रखें जिनकी कुंडली के तृतीय, षष्ठम, सप्तम, दसम या एकादश भाव में राहु स्थित है उन्हे यह गोमेद अवश्य धारण करना चाहिए। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


मकर राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Capricorn sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

मकर राशि के जातक यदि गोमेद धारण करना चाहते हैं तो याद रखें जिन जातकों की कुंडली में राहु प्रथम, षष्ठम, सप्तम, नवम या एकादश भाव में स्थित है सिर्फ वे जातक ही गोमेद धारण कर सकते हैं। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


कुंभ राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for Aquarius sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

कुंभ राशि के जातक यदि गोमेद धारण करना चाहते हैं तो याद रहे वही जातक सिर्फ गोमेद धारण कर सकते हैं जिनकी कुंडली के चतुर्थ, पंचम, नवम, दसम या एकादश भाव में राहु स्थित होगा। अन्य सभी जातकों के लिए गोमेद पहनना थोड़ा मुश्किल भरा होगा किन्तु जिनकी कुंडली के द्वादश भाव में राहु स्थित है वे परीक्षण के तौर पर राहु कि दशा अवधि तक गोमेद धारण कर सकते हैं। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


मीन राशि के जातक के लिए गोमेद | Hessonite or Gomed Gemstone for pisces sign
गोमेद (Gomed Gemstone or Hessonite Stone)

मीन राशि के जातक यदि गोमेद धारण करना चाहते हैं तो याद रखें आपकी कुंडली के तृतीय, सप्तम या एकादश भाव में राहु का होना अति आवश्यक है। तभी आप गोमेद धारण कर सकते हैं वो भी सिर्फ राहु की दशा अवधि तक। अधिक जानकारी और सही विधि से पहनने और लाभ उठाने के लिए आचार्य जी से संपर्क कर सकते है । 


{ सूचना- मैं सभी पाठकों से अनुरोध करता हु कि जब भी आप किसी रत्न को धारण करें उससे पहले किसी अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श अवश्य ले लें कि यह रत्न आपके लिए शुभ है या अशुभ उसके बाद ही रत्न धारण करें। }


गोमेद रत्न का असली या नकली होना | How to identify real Hessonite or Gomed Gemstone

यदि देखा जाए तो गोमेद की पहचान वे लोग ज्यादा बेहतर तरीके से कर सकते हैं जो रत्नों से जुड़ा व्यापार करते हैं, क्योंकि वे रेफ़्रेक्टोमीटर और स्पक्ट्रोमीटर की मदद से रत्न की गुणवत्ता और क्वालिटी का पता आसानी से लगा सकते हैं। क्योंकि रत्न की क्वालिटी सिर्फ रेफ़्रेक्टोमीटर और स्पेक्टोमीटर से ही पता चल सकती है जो सिर्फ बड़े व्यापारियों के पास होता है। इसी कारणवश अन्य जातकों के लिए इसकी पहचान करना थोड़ा कठिन होता है।  इन मीटरों की मदद से गोमेद की गर्माहट और तरंगों के प्रभाव को आसानी से समझा जा सकता है, जो देखने में अपेक्षाकृत धुंधला महसूस होता  है। 

गोमेद को बाजार में नकली उत्पादों की वृद्धि के कारण , खरीदार अब रत्न खरीदने के दौरान अधिक सावधान और सतर्क रहने लगे हैं । उपभोक्ताओं को बेहद सावधानी वर्तनी चाहिए , क्योंकि महंगी कीमत हमेशा प्राथमिकता की गारंटी नहीं देती गुणवत्ता और कीमत के संदर्भ में पत्थरों का एक व्यापक बाजार है । आमतौर पर गोमेद को अधिक प्रभावशाली माना जाता है , लेकिन वो लैब द्वारा प्रमाणित होना चाहिए । तभी आप असली व नकली रत्न के बीच पहचान कर सकेंगे । इसके अलावा , उपभोक्ता रत्न खरीदने से पहले उसकी गुणवत्ता का पता भी लगा सकता है । व्यापक रूप से उपलब्ध नकली उत्पादों से सावधान रहें । इन सब बातों के माध्यम से आप असली या नकली गोमेद की पहचान आसानी से कर पाएंगे ।   

  • यदि आप गोमेद की पहचान घर पर ही करना चाहते हैं तो सबसे आसान तारिक यह है कि आप सबसे पहले गोमेद को गोमूत्र में डालकर 24 घंटे के लिए रख दें, उसके बाद आप देखे कि आपने जिस गोमूत्र में रत्न डाला है उसका रंग बदला या नही यदि बदल गया तो गोमेद असली होगा और नहीं बदला तो गोमेद नकली होगा। 
  • आप असली गोमेद की पहचान करने के लिए किसी बर्तन में दूध लेकर उसमें गोमेद को डाल दें उसके बाद आप लगभग 12 घंटे होने तक इंतजार करें और देखें कि दूध का रंग गोमूत्र की तरह हुआ है या नही यदि हो गया तो समझो गोमेद असली है और नहीं हुआ तो गोमेद नकली है। 

गोमेद रत्न के उपरत्न | Substitute for Hessonite or Gomed Gemstone

यदि देखा जाए तो गोमेद ज्यादा महंगा रत्न नहीं है परंतु यह प्रभावशाली बहुत अधिक है। परंतु अगर आप किसी कारणवश इस गोमेद को खरीद कर नहीं धारण कर पा रहे हैं, तो आपके लिए सबसे बेहतर उपाय इसका उपरत्न होगा। गोमेद के विकल्पी दो उपरत्न है जिनका नाम- 

1. तुरसा

2. साफ़ी 

अब अगर देखा जाए तो आप तुरसा या साफ़ी में से कोई एक उपरत्न धारण कर सकते हैं। ज्यादा तर सभी रत्नों के उपरत्न सस्ते ही होते हैं जिसे लोग आसानी से खरीद सकते हैं। कहीं न कहीं हमें एक बात और पता चलती है की यदि आप चाहे तो गोमेद के रंग का अकीक भी धारण कर सकते हैं। 


गोमेद रत्न को धारण करने की विधि | How to wear Hessonite or Gomed Gemstone

ज्योतिषीय मतानुसार गोमेद चांदी की धातु में पहनना ज्यादा अच्छा रहता है। यदि आप किसी और धातु में पहनना चाहते है तो आपके लिए पंचधातु सबसे ज्यादा बेहतर होगा। इस रत्न को चांदी या पंचधातु से बनी अंगूठी में जड़वाकर मध्यमा उंगली में धारण करना चाहिए। शनिवार के दिन शाम  [ शतभिषा नक्षत्र में भी धारण कर सकते हैं ] को रत्न धारण करने से पहले आप स्वच्छ होकर अपने घर में बने पूजा स्थल पर आसन ग्रहण करें उसके बाद एक तांबे का बर्तन लें उसमें दूध या गंगाजल डाल के गोमेद को डुबो दें। अब सीधे बैठ कर हाथ जोड़ के 108 बार राहु ( राहु गोचर की भविष्यवाणी ) के ” मंत्र ॐ रां राहवे नमः ” का जाप करें। मंत्र 108 बार पूरा होने के बाद धूप लगा दें और फिर गोमेद को धारण करें। आप एक बात का हमेशा ध्यान रखें इस रत्न को शुक्ल पक्ष एवं सही लग्न में ही धारण करें। 


गोमेद रत्न का मूल्य (कीमत) | Price of Hessonite or Gomed Gemstone

गोमेद की कीमत उसकी गुणवत्ता और क्वालिटी पर निर्भर करती है यदि गोमेद साफ और चमकदार होता है तो उसकी कीमत कम से कम 500 रुपये/कैरेट होती है। गोमेद की क्वालिटी के आधार पर इसकी कीमत कम ज्यादा भी हो सकती है।


नोट– हमारे यहाँ सभी प्रकार के रत्न उपलब्ध है और हमारे यहाँ से ज़्यादातर लोग वैबसाइट के माध्यम से रत्नों को खरीदते हैं। हम लोगों को शुद्ध और सही तथा लैब द्वारा प्रमाणित रत्न उपलब्ध कराते हैं। हमारे यहां उपलब्ध रत्नों की गुणवत्ता और क्वालिटी में कोई कमी नहीं होती है। संसार में रत्नों को किसी लैब में तैयार नही किया जा सकता क्योंकि जो शुद्ध और अच्छी गुणवत्ता वाले रत्न  होते हैं वे सभी प्रकृति से प्राप्त होते हैं। हमारे पास गोमेद उचित मूल्यों में और बाजार की कीमत से कम में मिलता है। अतः आप हमसे असली और लैब द्वारा प्रमाणित रत्न की उम्मीद कर सकते हैं। 

AcharyaDeepanshudskastrology