शनि गोचर 2020 – 12 राशियाँ

शनि गोचर और शनि ग्रह की परिभाषा

शनि गोचर ज्योतिष की दुनिया में  वैदिक काल से ही महत्वपूर्ण  घटना  मानी जाती है । क्यूकी शनि ज्योतिष में सबसे धीरे चलने वाला ग्रह है ।  ( For Whatsapp Consultation – Click Here )

शनि को कर्म के प्रतीक व सहयोग से जुड़ी लोकतांत्रिक समूह का कारक ग्रह माना जाता है।

 ये मानव के जीवन को प्रभावित करता है , और ये भी  है कि शनि गोचर की गति बहुत ही धीमी मानी जाती है । जिसके कारण इसका परिणाम मजबूत और स्थित होता है , और  शनि महिमा का कोई मुकाबला नहीं है क्यूकि शनि की  दया दृष्टि जिस पर पड़ती है वह धन्य हो जाता है।

ज्योतिष शास्त्र में शनि देव को अनेक नामों से जाना जाता है। जैसे सूर्य पुत्र ,शनिश्चर,छाया पुत्र और मंद और भी अनेकों नाम से जाने जाते है ये माना जाता है, की सूर्य पुत्र शनि देव पूरे ब्रह्मांड के न्याय के देवता माने जाते है।

 शनि का गोचर , साढ़े सती और महा दशा का हमारे जीवन में बहुत बहुत महत्व माना जाता है। शनि के परिवर्तन सुखद व दुखद दोनों ही हो सकते है। ( For Consultation – Click Me )

ज्योतिष शास्त्र में शनि को मकर और कुम्भ राशि का स्वामी माना जाता है , और सूर्य , मंगल और चंद्रमा व मंगल को शनि गोचर का शत्रु माना जाता है।

शनि तुला राशि में उच्च और मेष राशि में नीच का होता है ।

सप्तम भाव में शनि गोचर दिगबली गोचर कहलता है क्यूकि शनि सप्तम भाव में दिगबली होता है । 

शनि गोचर में बुध व शुक्र को मित्र और बृहस्पति के साथ सम भाव रखता है।

चलिये जानते है की आपके जीवन पर शनि गोचर का क्या प्रभाव पड़ेगा कैसा रहेगा आपकी राशियों पर शनि गोचर का प्रभाव।

शनि गोचर वर्ष  2019 में धनु राशि में ही स्थित रहेगा ,28 अप्रैल को शनि वक्री गति करेगा और 22 सितंबर को धनु राशि में पुनः मार्गी हो जाएगा । और इस वर्ष शनि 25 जनवरी तक अस्त रहेगा और उसका प्रभाव कम हो जाएगा । और वहीं वर्ष के अंत में 29 दिसम्बर को पुनः अस्त होगा और 30 जनवरी 2020 तक इसी स्थित में रहेगा ।

शनि ग्रह का गोचर 26 जनवरी 2020 मंगलवार के दिन रात को 12:18 मिनट पर धनु राशि से मकर राशि में हो रहा है। शनि की यह अपनी ही राशि है और शनि 17 जनवरी 2023 को कुम्भ राशि में गोचर करेगा ।

शनि को न्याय के देवता के नाम से भी जाने जाते है और इसीलिए शनि का चरो दिशाओं में डंका बजता है आइये जानते है सूर्य पुत्र शनि का अन्य राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा । 

मेष राशि

मेष राशि में शनि का गोचर दसम भाव में हो रहा है। ज्योतिष शास्त्र में ये माना जात है की कुंडली में दसवें भाव से कर्म को देखा जाता है । मेष राशि के लोगों के लिए शनि का राशि परिवर्तन अत्यधिक लाभकारी  व शुभ रहेगा ।

शनि का परिवर्तन आपके कर्म को प्रभावित कर सकता है , इसलिए आपको इस बात से सचेत रहना होगा । मेष राशि के लोगों को शनि के परिवर्तन से नौकरी करने वाले लोगों को अत्यंत लाभ मिलेगा और खुशी की बात ये है की आप लोगों को इस समय में प्रमोशन भी मिल सकता है।

 मेष राशि के जो लोग काफी समय से शादी का सोच रहे थे उनके  लिए यह समय बहुत अच्छा रहेगा । और जो लोग काफी समय से अच्छी नौकरी की तलाश में भटक रहे थे , उन लोगों को अच्छी नौकरी मिलने का अच्छा योग बन रहा है।

परंतु इस समय आपको आपने माता-पिता का ख्याल रखना होगा, तथा अपने जीवनसाथी की भी सेहत की देखरेख करनी पद सकती है। इसलिए शनि का गोचर आपके लिए अत्यंत लाभकारी है ।

वृषभ राशि

वृषभ राशि में शनि का गोचर नवें भाव में हो रहा है ,ज्योतिष के अनुसार कुंडली में नवें भाव से भाग्य का मत किया जाता है। शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए बहुत ही लाभकारी होने बाला है।

शनि गोचर का परिवर्तन आपके भाग्य में काफी लाभकारी होने वाला है इस परिवर्तन से आपके रुके हुए कामों में बहुत बरकत मिलेगी और इस राशि के किसी भी लोगों का काफी समय से नौकरी का प्रमोशन भी हो सकता है।

 इस समय आपको अपने जीवनसाथी से सहयोग भी मिल सकता है लोग नौकरी की तलाश में भटक रहे है उनके लिए ये समय बहुत शुभ है। परंतु आपके माता से थोड़ा मन मुटाव हो सकता है। इस राशि के लोगों किसी धार्मिक जगह पर जा सकते है ।

मिथुन राशि

मिथुन राशि में शनि का गोचर अष्टम भाव में हो रहा है । कुंडली के द्वारा अष्टम भाव में मृत्यु का मत किया जाता है।

मिथुन राशि के लिए शनि परिवर्तन बहुत ही अशुभ रहेगा, ये समय आपके लिए अच्छा नहीं है । आपका अपने परिवार से झगड़ा भी हो सकता है।

राशि परिवर्तन से आपकी परेशानियाँ और भी बड़ सकती है इसलिए आपको अपनी वाणी पर संयम रखना होगा । और आपके दोस्त से धोखा भी मिल सकता है । ये समय आपके लिए अच्छा नहीं है इसलिए आपको बहुत सचेत रहना होगा ।

आपको किसी भी कार्य क्षेत्र में उच्च अधिकारियों के साथ मतभेद भी हो सकता है। शनि की राशि परिवर्तन में आपको बहुत ही सोच-समझ कर चलना होगा ताकि आपको कोई हानि न हो सके ।

कर्क राशि

कर्क राशि में शनि का गोचर सप्तम् भाव में हो रहा है।

ज्योतिष की गणना के अनुसार कुंडली में सप्तम् भाव से वैवाहिक जीवन का मत किया जाता है।

कर्क राशि के जातकों के लिए शनि का राशि परिवर्तन बहुत ही शुभ रहेगा ।

राशि परिवर्तन में जो जातक विवाह के लिए इच्छुक है उनके लिए ये समय अच्छा संदेश लाने वाला है।

कर्क राशि में जो शनि का राशि परिवर्तन है उससे इन जातकों को बहुत ही शुभ समाचार मिलने वाला है जो लोग वैवाहिक जीवन जीना चाह रहे है उनके विवाह के लिए ये समय बहुत ही शुभ है।

राशि के जातक किसी धार्मिक स्थल पर भी जा सकते है उनके लिए भी ये समय बहुत अच्छा रहेगा ।

अगर कोई अपनी नौकरी के लिए प्रयास कर रहा है उन्हें नौकरी मिल सकती है। इसलिए आपको बहुत सोच-समझ कर अपना कार्य करना होगा ।

सिंह राशि

सिंह राशि में शनि का गोचर छठवें भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में छठवें भाव से किसी भी रोग या दुश्मन का मत किया जाता है।

शनि का राशि परिवर्तन आपके लिए मुख्य रूप से सामान्य रहेगा ,अगर आपके  लिए ज्यादा अच्छा नहीं है ,तो बुरा भी नहीं है।

आपको इस राशि परिवर्तन से किसी रोग से छुटकारा मिलने की संभावना हो रही है।

आपका कोई खास दोस्त जो किसी कारण से आपका सच्चा साथी बन सकता है उसके लिए  आपको अपनी वाणी पर संयम रखना होगा,ताकि आपको पूर्ण रूप से लाभ मिल सके।

 इस राशि परिवर्तन से आपको कोट कचहरी के क्षेत्र में सफलता मिल सकती है। लेकिन ये समय आपके ससुराल पक्ष से परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है, और आपके खर्चे भी बहुत ज्यादा बड़ सकते है।

अगर आप किसी यात्रा पर जाना चाहते है.। तो आपका योग बन रहा है आपको यात्रा पर जाने में सफलता प्राप्त होगी पर कुछ रुकावटों के बाद । 

कन्या राशि

कन्या राशि में शनि का गोचर पाँचवें भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में पांचवें भाव के माध्यम से संतान और ज्ञान का मत किया जाता है।

शनि गोचर का राशि फल कन्या राशि के जातकों के लिया बहुत ही शुभ व लाभकारी है, और इस राशि परिवर्तन से आपको संतान की प्राप्ति होगी ।

 ये समय आपके करोवार को बरकत देगा । आपका रुके हुआ सारे काम बनेंगे ।

इस समय विद्यार्थियों को भी अनेक लाभ मिलने का योग है ।

अगर कोई भी विद्यार्थी अपने मनपसंद कालेज में एडमिशन लेना चाहते है ,तो उन विद्यार्थियों के लिए ये समय बहुत ही शुभ और अच्छा है।

लेकिन इस समय आपको आपने बड़ो से नोकझोंक होने की संभावना हो सकती है ।

आपको अपने वैवाहिक जीवन में भी कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आपका यात्रा पर जाने का योग बन सकता है मगर सफर के दौरान अपने  समान का ध्यान ज़रूर रखे।

तुला राशि

तुला राशि में शनि का गोचर चौथे भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में चौथे भाव से सुख और माता पिता का मत किया जाता है।

तुला राशि के जातकों के लिए ये राशि परिवर्तन शुभ – अशुभ दोनों  तरह से रहेगा ।

 इस राशि परिवर्तन से आपकी माता जी की सेहत में काफी सुधार आयेगा ,और आपके ऊपर शनि की बुरी दृष्टि  का आरंभ हो जाएगा । लेकिन इस राशि परिवर्तन से आपको भूमि लेने या फिर कोई वाहन लेने में सुख की प्राप्ति होगी।

लेकिन इस समय आपको अपने शत्रु से बचकर रहना होगा क्योंकि इससे आपको हानि भी हो सकती है।

अगर आपको अपने कार्य में अत्यधिक रुचि है तो आपको उस पर ध्यान देना होगा क्योंकि ये योग आपके कार्य के लिए सक्षम नहीं है और आपको कोट कचहरी के मामलों में भी जोखिम उठाना  पड़ सकता है ।

आपको शारीरिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। डाक्टर से संपर्क में ज़रूर रहें । 

इसलिए आपको अपने सभी कामों पर सोच-समझ कर निर्णय लेना होगा । ताकि आपको किसी भी तरह से हानि न पहुँच सके, आपको सावधान रहना होगा ।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि में सनी का गोचर तीसरे भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में तीसरे भाव से छोटे भाई बहन और पराक्रम का मत किया जाता है। वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शनि का राशि परिवर्तन शुभ रहने वाला है। क्यूकी तीसरे भाव में शनि अच्छा फल देता है । 

इसलिए शनि का परिवर्तन आपके पराक्रम में उन्नति करेगा,और साथ ही साथ आपका भाग्य आपके कार्यक्षेत्र में साथ देगा। 

ये समय आपके सारे रुके हुए कामों को पूरा करने में आपकी बहुत मदद करेगा तथा यह समय आपके लिए बहुत ही शुभ है ।

परंतु इस समय आपका अपने संतान के प्रति कुछ समस्याओं का सामना करना पद सकता है ।

धार्मिक कार्यों के लिए ये समय आपके लिए अति आवश्यक है।

आपकी आय में भी अत्यधिक उतार चढ़ाव आ सकते है।

धनु राशि

धनु राशि में शनि का गोचर दूसरे भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में दूसरे भाव में कुटुंभ व धन संपत्ति का मत किया जाता है।

इसलिए शनि का राशि परिवर्तन धनु राशि के जातकों के लिए मध्यम रहेगा । लेकिन शनि का राशि परिवर्तन आपके धन में आपको उन्नति देगा और इसी समय आप पर शनि की आखिरी  साढ़े साती शुरू हो जाएगी ।

परंतु आपका अपना परिवार आपका इस समय पूरा साथ देगा पर फिर भी आपको इस समय कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए घबराए नहीं बल्कि उन कठिन परेशानियों का डट कर सामना करें ।

शनि गोचर के प्रभाव से आपको अपने ससुराल पक्ष से भी कुछ दुखद समाचार मिल सकते है और आपकी माता जी का स्वास्थय भी इस समय खराब हो सकता है इसलिए आपको बहुत सोच समझ कर कदम उठाना है नहीं तो आपको हानि भी हो सकती है।

मकर राशि

मकर राशि में शनि का गोचर लगन भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में लगन भाव से शरीर व दिमाग का मत किया जाता है।

मकर राशि के जातकों के लिए शनि का राशि परिवर्तन बहुत ही अच्छा रहेगा ।

इस गोचर से आपकी ढाईया या फिर कह लो साढ़े साती का दूसरा चरण शुरू हो रहा है । 

आपको इस राशि परिवर्तन में लाभ ही लाभ मिलने वाला है आपको अपने सारे रुके हुए कामों में वरकत मिलेगी । अगर कोई नौकरी के लिए प्रयास कर रहा है तो उसकी नौकरी लग सकती है यह समय आपके  लिए बहुत अच्छा है। 

लेकिन इस समय आपमें आलस्य की अधिकता रहेगी ।आपका इस समय में अपने जीवन साथी से झगड़ा भी होने की  संभावना  रहेगी। आप अपने कार्यों को बहुत ही सोच समझ कर करें ।

आपके लिए अगर आप व्यापार करते है तो आपको बहुत संभल कर चलना चाहिए । आप अगर सही तरीके से अपना कार्य करेंगे तो आप को सफलता जरूर प्राप्त होगी और आय में वृद्धि भी होगी।

कुम्भ राशि

कुम्भ राशि में शनि का गोचर बारहवें भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार कुंडली में बारहवें भाव से खर्च का मत दिया जाता है।

कुम्भ राशि के जातकों के लिए शनि का राशि परिवर्तन अशुभ ही रहेगा ।

शनि गोचर खर्चो को बढ़ावा देगा और आपको व्यापार से संबन्धित कार्यों में हानि होने का डर सता सकता है। इसलिए आपको बहुत सोच समझ कर कदम उठाना होगा ।

इस राशि परिवर्तन के साथ ही आप पर शनि की साढ़े साती की  पहली  शुरू ढाईया होगी । आपको कोई भी पुराना रोग भी फिर से परेशान कर सकता है।

आपके परिवार के साथ भी किसी से झगड़ा हो सकता है इस समय आपको शत्रुओं  सावधान रहना होगा । आपको अपना कोई भी कार्य आपने भाग्य पर नहीं छोडना है।

मीन राशि

मीन राशि में शनि का गोचर ग्यारहवें भाव में हो रहा है।

ज्योतिष के अनुसार ग्यारहवें भाव से आय का विचार किया जाता है।

मीन राशि के जातकों के लिए शनि राशि परिवर्तन आपके धन यानी आय को वरकत देगा। जिससे आपके करोवार में उन्नति होगी ।

आपके लिए ये राशि परिवर्तन ( शनि गोचर 2020 ) आपकी सभी इच्छायों को पूरा होने में मदद करेगी ।

इस समय आपको कोई शुभ समाचार भी मिल सकता है। 

आपकी सैलरी भी बढ़ सकती है । आपको आपने कार्यक्षेत्र में भी काफी मन सम्मान मिलेगा ।

आप इस समय इतने व्यस्त रहेंगे जिसके कारण आप आपने पार्टनर को भी समय नहीं दे पाएंगे और आप अगर शादीशुदा है तो आपके रिश्ते में कुछ दरार पड़ सकती है ।

आप दोनों का झगड़ा भी हो सकता है। इसलिए आपको सोच समझ कर कदम उठाना होगा ।

शनि गोचर और राशि परिवर्तन से आपको किसी भी प्रकार से हानि न हो इसके लिए आप हर कदम सोच समझ कर उठाएँ ।          


शनि गोचर