पन्ना रत्न के 12 फायदे और 7 नुकसान

Posted
pannaratna

पन्ना रत्न (PannaRatna)क्या है और इसके बारे में 

PannaRatna -पन्ना रत्न – प्रकृति में पाया जाने वाला एक ऐसा रत्न जो की बहुत अधिक कीमत वाला तथा अमूल्य रत्न  इसे ही हम पन्ना रत्न कहते है ।इस पन्ना  रत्न को इंग्लिश में एमराल्ड स्टोन भी कहा जाता है और यह पन्ना रत्न हरे रंग का होता है । इसका रंग हल्का तथा गहरे हरे रंग का भी पाया जाता है ।  इस पन्ना रत्न के हरे होने का कारण इसके अन्दर पाया जाने वाला क्रोमियम और वेनेडियम तत्व होते हैं ।  ज्यादातर इस पन्ना रत्न को कोयले की खानों में से निकाला जाता है ।  यह पन्ना रत्न जो सबसे ज्यादा प्रभावी और मूल्यवान है वह अमेरिका देश के कोलम्विया शहर में पाया जाता है।  इसकी खाद्याने कोलंबिया शहर की म्युजो सिटी के घने जंगलों की पहाड़ी छेत्रों में होती है।  जहाँ पर आम आदमी आसानी से नहीं जा सकता है।  यह इतनी खतरनाक जगह है यहाँ पर बहुत जहरीले कीड़े मकोड़े भी पाय जाते है।  इसलिए इस पन्ना रत्न को सिर्फ स्थानीय लोग ही निकाल कर ला पाते है ।  इस रत्न को निकालने के लिए कोयले को बहुत बारीकी से देखना पड़ता है ।  इसके अलावा यहाँ पर खाद्यानों के धसने , चट्टानों के खिसकने का भी डर होता है ।  जिससे उन लोगों की जान का भी खतरा बहुत ज्यादा होता है । यहाँ की खाद्यानो से पाय जाने वाले पन्ना रत्न की कीमत बाजार में हजारों , लाखों रूपए है ।  जब यह पन्ना रत्न कोयले की खाद्यानों से निकाला जाता है तब इसमें कई प्रकार की दरारें पड़ जाती है  इन दरारों को खत्म करने के लिए इस रत्न की ओइलिंग की जाती है ।  यानी इसमें तेल लगाकर काटा जाता है ।  इसके बाद इस पन्ना रत्न का जो आकार होता है वो बदल जाता है जिससे यह पन्ना रत्न दिखने में और अधिक अच्छा लगने लगता है  और इसकी संरचना में सुधार हो जाता है । तथा इसका जो स्थिर होने का भाव है वो भी सही हो जाता है और इसमें स्पष्टता भी आ जाती है । इस रत्न को ऐसा बनाने के लिए देवदार तेल का उपयोग किया जाता है ।  इन सभी कार्यों को पूरा करने के बाद इस पन्ना रत्न की गुडवत्ता में भी सुधार हो जाता है । इस कारण यह लंबे समय तक टिकाऊ रहता है ।  इस पन्ना रत्न की गुडवत्ता का निर्धारण करने के लिए 4 मापदंड अपनाय जाते है ।  जिसमे रंग , आकार , स्पष्टता और वजन यानी कैरेट आता है ।  यह पन्ना रत्न इतना प्रभावशाली है की इसे पहनने के बाद इसके ज्यादातर सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते है । इस रत्न के प्रभाव से कुछ कुछ मानसिक विकारों के सुधार होता है ।  ऐसे लोग जिनकी कुंडली में बुध कमजोर स्थिति में होता है ।  ऐसे लोगों को अपनी मानसिक तथा बौधिक छमता में बढ्होत्री करने के लिए इस पन्ना रत्न को पहन सकते है ।  तथा ऐसे लोग जो बोलने में हकलाते है या तुतलाते है उन लोगों को ज्यादातर पन्ना रत्न पहनने की सलाह दि जाती है ।  ज्योतिष के अनुसार यह भी माना जाता हैं की यदि इस पन्ना रत्न को किसी गर्भवती महिला की कमर में बाँध दिया जाय तो उस महिला को डिलीवरी के समय होने बाले दर्द में बहुत ज्यादा राहत मिल जाती है ।  जिससे वह बच्चे को आसानी से जन्म दे सकती है । 

पन्ना रत्न (PannaRatna) और इसकी तकनीकी विज्ञान 

इस पन्ना रत्न में दो सिलिकेट पाए जाते है जिनके नाम बेरिलियम और एल्युमीनियम होते है । इसी कारण इस पन्ना रत्न को मिश्रित खनिज कहा जाता है ।  इस पन्ना रत्न का रंग हरा होता है तथा इसे हम ह्ल्के हरे , चटक हरे रंग का भी पाते है ।  इस रत्न की कठोरता हम मोह्स स्केल से मापते है जिससे हमें इस रत्न की कठोरता 7.5 से 8.0 तक की मिलती है ।  इस रत्न की इसी कठोरता की बजह से पन्ना रत्न आभूषण सम्बन्धी सभी कार्यों में बहुत अच्छा माना जाता है ।  लेकिन इस पन्ना रत्न की अधिक कठोरता की वजह से इसकी जो स्थिरता होती है उसमे बहुत समस्यां उत्पन्न होती है । हमें प्रकृति में ऐसे पन्ना रत्न बहुत कम मिलते है जिनकी सतह पर कोई टूट फूट या दरार न हो ।  इस रत्न में जब दरारे होती हैं तो यह रत्न बहुत कमजोर हो जाता है । जिससे इस पन्ना रत्न के टूटने का बहुत बड़ा डर रहता है ।  इस पन्ना रत्न में जो दरारें हो जाती है उन्हें भरने तथा इसकी मजबूती को बढाने के लिए इसमें कई प्रकार की सामग्री मिश्रित की जाती है ।  इन सामग्रियों के मिलाने के बाद इस पन्ना रत्न की सुन्दरता तो बढ़ जाती है परन्तु इसकी स्थिरता में कोई सुधार नही होता है । 

पन्ना रत्न (PannaRatna) और इसके फायदे

यह पन्ना रत्न व्यक्ति के जीवन में बहुत ज्यादा लाभकारी रत्न माना गया है । इस पन्ना रत्न का स्वामी बुध होता है।  इस रत्न का स्वामी उस व्यक्ति को सदेव सकारात्मक फल ही देता है ।  कभी कभी ऐसा होता है की व्यक्ति इस पन्ना रत्न को विधि पूर्वक नही पहनते तब उसे नकारात्मक प्रभाव सहने पड़ते है और उसे तकलीफ़ होती है।   इसलिए इसे धारण करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अवश्य पुंछ ले की यह पन्ना रत्न आपके लिए शुभ होगा या अशुभ।  यदि शुभ है तो यह आपको लाभ देगा और यदि अशुभ है तो हानि पाहुचाएगा ।  जब व्यक्ति इसे धारण कर लेता है तब उसे इसके बहुत से फायदे होते जैसे की मैं आपको इसके फायदे के बारे नीचे दिए गए बिंदुओं में बताऊंगा । 

  1.  इस पन्ना रत्न (PannaRatna) के धारण करने से व्यक्ति का स्वस्थ ठीक रहता है और उसे धन से जुडी हर चीज में फायदा होता है ।  और यह पन्ना रत्न इतना प्रभावशाली हैं की यह व्यक्ति के जीवन में ख़ुशियों को हमेशा बरकरार रखता है ।  मानो उसके जीवन में उजाला हो गया हो ।  ऐसे व्यक्ति जो इसे धारण कर लेते है उन्हें  कभी धोखा नही मिलता । उसकी शारीरिक समस्याएं सब ठीक हो जाती है और वह सभी रोगों से निजात पा लेता है।  यानी वह रोग मुक्त हो जाता है ।  ऐसे व्यक्तियों  का अत्मविश्वाश बढ़ जाता है । उसे अपने ही किसी पूर्वज से लाभ होता है । जब व्यक्ति के ऊपर पन्ना रत्न के स्वामी बुध की कृपा होती है तब वह अपने जीवन में ऊँचाइयों को छुता है ।  लेकिन इस पन्ना रत्न को धारण करने से पहले किसी भी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अवश्य पुंछ लें । 
  1. इस पन्ना रत्न (PannaRatna) से व्यक्ति के जीवन में आने वाले हर संकट से लड़ने की शक्ति प्रदान होती है।  तथा इस रत्न के अन्दर जहरीले तत्वों , विषाणुओ से लड़ने की छमता होती है । इसे पहनने के बाद उसे हर काम में सफलता प्राप्त होती है जिससे उसे धन की प्राप्ति होती है । ऐसे व्यक्तियों को मान सम्मान मिलने लगता है।  और उस व्यक्ति का लोगों के प्रति आकर्षण बढ़ जाता है ।  इसके धारण करने से व्यक्ति की आर्थिक स्थिति सुधार जाती है और ऐसे व्यक्ति का परिवार हमेशा खुशियों से भरा रहता है । जिसे हम कह सकते है की परिवार का सुख मिल जाता है ।  ऐसे में व्यक्ति जब भी कोई बात करेगा तो वह अपनी मान मरियादा का बहुत ख्याल रखेगा ।  लेकिन इस रत्न को पहनने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अवश्य पुंछ लें ।   
  1. यह पन्ना रत्न (PannaRatna) बुध का रत्न है । जब किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध जब  सहज भाव यानी तृतीय भाव में होता है ।  तो व्यक्ति इस रत्न को धारण कर लेना चाहिये ।  लेकिन इससे पहले किसी भी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से परामर्श ले लें की ये पन्ना रत्न आपको फायदे देगा या नुक्सान ।  इस भाव में यदि बुध की दशा अच्छी चल रही है व्यक्ति के ऊपर तो मिथुन राशि के जातक को इसका बहुत लाभ मिलेगा ।  ऐसे में व्यक्ति को जनसंपर्क में आने का अवसर मिलेगा तथा लोगों का समर्थन करने का भी मौका मिलेगा ।  इस रत्न को धारण करने के बाद व्यक्ति के अन्दर एक नया उत्साह जाग उठेगा । यह पन्ना रत्न सबसे ज्यादा गर्भवती महिलाओं के लिए फ़ायदेमंद होता हैं  क्योंकि इस पन्ना रत्न के धारण करने के बाद उन्हें डिलीवरी के समय होने बाले हर दर्द से राहत पहुँचता है ।  जिससे वे बच्चे को आसानी से जन्म दे पाती है । 
  1.  इस रत्न (PannaRatna) को जब व्यक्ति धारण कर लेता है और यदि व्यक्ति की कुंडली में बुध अगर सुख भाव में है तो उस व्यक्ति को सुख ही सुख प्राप्त होगा ।  उस व्यक्ति के सभी मनचाहे काम बनेंगे उसका जो वाहन खरीदने का शौख है वो भी पूरा हो जायगा ।  उस व्यक्ति का इसे धारण करने के बाद मन-स्वस्थ रहेगा और उसका हर काम को करने में मन लगेगा ।  अगर उस व्यक्ति का कोइ ज़मीनी विवाद चल रहा होगा तो वो भी निपट जायगा ।  उस व्यक्ति को माता का सुख प्राप्त होगा ।  उसकी इच्छा शक्ति में बढ़ोतरी होगी और उसके सोचने की शक्ति भी बढ़ जाएगी । ज्यादातर रोज़मर्रा की लाइफ में व्यक्ति को सबसे ज्यादा अपने जीवन में बहुत सारी मानसिक समस्याएं होती यह रत्न उन सभी समस्याओं से लड़ने की शक्ति देता है ।  और यह व्यक्ति के रक्तचाप को सामान्य बजाय रखता है ।  लेकिन एक बाद हमेशा याद रखे की जब भी पन्ना रत्न धारण करे तो उससे पहले अपनी कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य को दिखा लें | 
  1. यदि व्यक्ति की कुंडली में बुध पंचम भाव यानी संतान भाव में है तो व्यक्ति को यह रत्न (PannaRatna) अवश्य पहनना चाहिये लेकिन किसी अनुभवी ज्योतिष से पुंछ के ही पहने ।  जब व्यक्ति इसे धारण करता है तो इससे उन जातकों को संतान का सुख प्राप्त होता है।  इस रत्न का व्यक्ति के ऊपर इतने अच्छे प्रभाव होते है कि जब व्यक्ति इसे धारण कर लेता है तब वह उच्च शीक्षा को प्राप्त करता ।  उसका प्यार जो बहुत पहले छुट गया था । वो भी मिल जायगा | यदि कोई ऐसा व्यक्ति  जो सट्टे से ज्यादा लगाव रखता हो ।  जो बहुत पैसा लगता हो । वो व्यक्ति यदि इस रत्न को धारण कर लेता है तो उसे इससे  बहुत लाभ मिलेगा ।  यह पन्ना रत्न सबसे ज्यादा फायदा तो तब करता है । जब यह रत्न किसी को उपहार में मिलता है।  तो उस व्यक्ति का भाग्योदय हो जाता है इसीलिए इस रत्न को भाग्य का कारक भी कहते है ।  और यह सबसे ज्यादा मिथुन और कन्या राशि के लोगों के लिए लाभदायक होता है ।  लेकिन इसे धारण करने से पहले किसी भी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अपनी कुंडली दिखवा लें । 
  1.  जब व्यक्ति की कुंडली में बुध शत्रु भाव में होता है । तो व्यक्ति को पन्ना रत्न (PannaRatna) ज़रूर पहनना चाहिये । क्योकि इस पन्ना रत्न के पहनने से उस व्यक्ति को उसके ही शत्रु से होने वाले हर नुक्सान से बचने में सहायता मिलती है।  और अगर किसी व्यक्ति की किसी के साथ पुरानी दुश्मनी है जिससे वह उस व्यक्ति पर छुप के बार करता हो तो वह भी सामने आएगा इस रत्न के पहनने से । यदि आप कोई वक्ता है। तो इस रत्न के पहनने से आपकी वाणी में मधुरता आएगी।  जिससे एक नया निखार देखने को मिलेगा ।  तथा जो लोग हकलाते है उनके लिए भी यह रत्न लाभदायक होता है ।  ऐसे व्यक्ति जो इस रत्न को धारण करता है उसे अपने मामा या अपने ही किसी संबंधी से फायदा हो सकता है ।  जिन व्यक्तियों को मानसिक तनाव रहता है वे इसे ज़रूर पहने क्योंकि इस रत्न के धारण करने से उस व्यक्ति का मानसिक तनाव दूर होता है।  या जिसे हम कह सकते है की मानसिक कलेश मिट जाता है ।  और वह अपने काम काज को सफलता पूर्वक करते हुए सुख का अनुभव करता है । 
  1. इस रत्न (PannaRatna) के धारण करने से व्यक्ति का रुका  हर काम बन जाता है । जिसकी वह बहुत दिनों से प्रतीक्षा कर रहा होता है ।  यदि व्यक्ति की कुंडली में बुध सप्तम भाव या इसे हम कह सकते  है विवाह भाव में है । तो उस व्यक्ति को विवाह का सुख प्राप्त हो जाएगा इस पन्ना रत्न के धारण करने से ।  जिन लोगों का वैवाहिक जीवन सुख से नही कट रहा है वे इस रत्न को अवश्य पहने और अपने वैवाहिक जीवन में हो रहीं समस्याओं को दूर भगायें ।  ऐसे लोग जिनकी पत्नी उनसे कम लगाव रखती है या कोई ऐसा जिसका पति उससे कम लगाव रखता है तो ऐसे व्यक्तियों को इस रत्न को ज़रूर पहनना चाहिये । क्योंकि इस रत्न के पहनने से आप दोनों पति पत्नी का आकर्षण एक दूसरे के प्रति बढ़ जायगा।  और आप एक दूसरे के करीब आने लगेंगे ।  बहुत से ऐसे लोग होते है जिनके बीच तनाव के कारण तलाक का पॉइंट आ जाता है।  तो ऐसे में व्यक्ति को परेशान होने की जरुरत नही हैं । वह व्यक्ति किसी अनुभवी ज्योतिष के परामर्श से पन्ना रत्न धारण करे और ये जो उसकी पर्सनल लाइफ में तलाक का जो पॉइंट आया है इसे जड़ से खत्म करें । उन्हें इससे लौकिक  सुख भी प्राप्त होता है |
  1. ऐसे व्यक्ति जिनकी पर्सनल जिंदगी में उतार चढ़ाव बना रहता है ।  या फिर वे अपनी जिंदगी में बहुत कुछ करना चाहते हैं लेकिन कुछ कर नही पा रहे ।  जिनको दुखों ने चारों ओर से घेर रखा है ।  जो अपनी लाइफ में उभर ही नहीं पा रहे है उनके लिए पन्ना बहुत उपयोगी है ।   जब व्यक्ति की कुंडली में बुध आयु भाव में या फिर कहलों अष्टम में होता है तो उस व्यक्ति पर आने वाले  हर आर्थिक संकट से बचने का उपाय मिल जाता है ।  यानी उसके उपर आने बाले हर संकट का उसे पहले ही पता चल जाता है जब वह इस पन्ना रत्न को धारण कर लेता है ।  इसे हम मृत्यु स्थान भी कहते है मतलब यदि व्यक्ति इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को पहनता है तो उस व्यक्ति पर उसकी जान के प्रति आने वाले हर खतरे से उसे पहले ही आगाह कर देता है ।  जिससे उसकी जान का जोखिम कम रह जाता है ।  ऐसे व्यक्ति जो इस रत्न को धारण कर लेते है उन्हें अनीति और भ्रष्टाचार से बचके रहना चाहिये उस व्यक्ति को ऐसी जगह नही जाना चाहिये जहां उसका उल्लंघन किया जाता हो ।  यदि आप ऐसी जगहों पर जाने से अपने आप को रोंक लेंगे तो आपको बहुत बड़ा आर्थिक लाभ भी हो सकता है ।  बहुत से ऐसे व्यक्ति होते है जो किसी कारणवस नपुंसक हो जाते है । लेकिन वो इस समस्या का  इलाज तो बहुत करवाते है परन्तु उन्हें कोई फायदा नही होता वे लोग अगर इस पन्ना रत्न को पहनते है तो उनकी इस समस्या का निवारण हो सकता है ।  लेकिन व्यक्ति को पन्ना रत्न पहनने से पहले एक बार किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से परामर्श ले लेना चाहिये । 
  1. इस भाव को हम धर्म भाव या भाग्य भाव कहते है । जब व्यक्ति की कुंडली में बुध अगर भाग्य भाव में है और अच्छा है । तो उस व्यक्ति का भाग्य खुल जायगा । और वह अपनी लाइफ में सब कुछ करने में सफलता हासिल कर जायगा ।  बुध पन्ना रत्न का स्वामी होता है इसलिए जब आप इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को धारण कर लेते है तो आप अपने निजी जीवन में सुख का अनुभव कर पाएंगे ।  इस भाव में व्यक्ति का भाग्योदय होता है । इससे व्यक्ति की बुद्धि में बढ़ोतरी होती है । उसे अपने किसी गुरु से ज्ञान लेने के शुभ अवसर मिलेंगे । व्यक्ति को इस रत्न को धारण करने के बाद कई परदेश जाने के मौके भी मिल सकते हैं । उस व्यक्ति को अपने भाई की पत्नी से बहुत प्यार मिलेगा और आपका हर वक़्त में साथ देगी आपकी भाभी । आपका धार्मिक चीजों से लगाव बढ़ जाएगा और आप धर्म के मार्ग पे चलने लगेंगे । जब भी आप किसी से बात करेंगे तो आपसे बात करने वाला व्यक्ति आपसे  बहुत प्रसन्न होगा । ऐसी स्थिति में जिन व्यक्तियों का तलाक हो चुका होता है उनका दूसरा विवाह भी हो सकता है । लेकिन जब भी इस रत्न को धारण करे उससे पहले किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अपनी कुंडली दिखवा लें ।
  1. जब व्यक्ति की कुंडली में बुध कर्म स्थान में होता है । इस दुनिया में व्यक्ति को उसके ही द्वारा अच्छे या बुरे कर्म का फल मिलता है । अगर व्यक्ति के पिछले जन्म के कर्म बुरे हैं तो उस व्यक्ति को बुरा फल ही मिलेगा । ऐसे में व्यक्ति को अपनी कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से दिखवाकर पन्ना रत्न (PannaRatna) पहनने की सलाह लेनी चाहिए जिससे आपको जो बुरे प्रभाव सहने पड रहे है उनका सामना करने की शक्ति मिल सके और आपके साथ जो भी बुरा हुआ है उन सब में सुधार आ सके । जब इस रत्न का व्यक्ति के ऊपर अच्छा प्रभाव पड़ता है तब उस व्यक्ति को बहुत से फायदे होते है जैसे – व्यक्ति की जो काम करने की छमता है उसमे सुधार हो जाता है । और उसकी कार्य छमता बढ़ जाती है । और उस व्यक्ति को इस पन्ना रत्न के पहनने के बाद सामाजिक सम्मान में वृद्धि होती है।  उसको  इतना सम्मान मिलता है कि वो अपना सर गर्व से उठा के चल पाता है । इस रत्न के पहनने के बाद व्यक्ति को पिता का सुख प्राप्त होता है । यानी उस व्यक्ति को हर काम को करने में अपने पिता का पूरा सहयोग मिलता है । अगर व्यक्ति कहीं नौकरी कर रहा है तो उसे उच्च पद की प्राप्ति होती है । जिससे वह अपने शासनिक काम को मन लगाकर कर पाता है । जिससे उसे शासन का लाभ प्राप्त होता है । कभी कभी ऐसे लोग होते है जिनको जवानी में ही किसी कारण  घुटनों में समस्या हो जाती है तो उन लोगो को इस समस्या से निजात मिलता है । ऐसे में बहुत से ऐसे व्यक्ति होते है जिनको अपनी ससुराल से उनकी सास के गलत व्यवहार का पता नहीं चल पाता है । उन व्यक्तियों को इसका भी पाता चल पाता है इस पन्ना रत्न को पहनने के बाद ।  लेकिन व्यक्ति को इस पन्ना रत्न के धारण करने से पहले एक बार अपनी कुंडली को किसी अनुभवी ज्योतिष को अवश्य दिखा लेनी चाहिए ।
  1. जब व्यक्ति की कुंडली में बुध लाभ भाव में होता है तो उस व्यक्ति को हर तरीके से लाभ होता है । और यदि व्यक्ति पन्ना रत्न धारण करता है तो उस व्यक्ति की कुंडली में बुध यानी पन्ना रत्न (PannaRatna) के स्वामी सभी कार्यों में सफलता देते है । पन्ना रत्न के पहनने से व्यक्ति को तमाम सारे फायदे होते है जैसे – व्यक्ति को उसके सभी मित्र बहुत सम्मान देंगे और उसका सभी कार्यों में साथ देंगे । जो लोग अपने बेटे के लिए अच्छी बहू धुंड रहे है उनको एक बहुत अच्छी बहू मिल पाएगी । ऐसे में उस व्यक्ति को अच्छा काम करने का मौका मिलता है और व्यक्ति के अच्छे काम के कारण उस उपहार मिलते है । उस अपने सगे संबंधियों से तथा अपने मित्रों से लाभ मिलेगा । आपकी आय में बढ़ोतरी होगी आपकी जितनी आय होगी उसमे कई गुना इज़ाफा  होगा । ऐसे में ज्यादातर कुछ व्यक्तियों के घुटने के निचले भाग में प्रॉब्लम होती है लेकिन जब इस पन्ना रत्न को व्यक्ति विधि पूर्वक धारण  कर लेता है तो उसको हर समस्याओं से लड़ने की ताकत मिलती है और वह सभी समस्याओं से निजात मिलती है । जब व्यक्ति इस पन्ना रत्न को धारण कर लेता है तब उस किसी ऐसी बड़ी चीज भेंट में मिल सकती है जिससे उस बहुत प्रसन्नता होगी । लेकिन व्यक्ति इस रत्न को धारण करने से पहले व्यक्ति को किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अवश्य पुंछ लेना चाहिए ।
  1. कोइ ऐसा व्यक्ति जिसकी कुंडली में बुध व्यय स्थान में है तो उस व्यक्ति को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है इसमें व्यक्ति पन्ना रत्न अवश्य धारण करना चाहिए जिससे आपको हो रही प्रॉब्लम्स से निजात मिल सकें जैसे – ऐसा होता है कभी कभी व्यक्ति के उपर बहुत कर्जा हो जाता है जिसे वो बहुत मेहनत करने के बाद भी नहीं चुका पाता है इस कर्जे को चुकाने में यह पन्ना रत्न (PannaRatna) आपकी बहुत मदद करेगा । आपको होने वाले हर नुकसान से बचाएगा । अगर आप किसी केश में जेल चले जाते है तो उसमे आपको बहुत मदद मिलेगी । अगर आप किसी मुकदमे को जीतना चाहते हो तो आपको पन्ना रत्न अवश्य पहनना चाहिए क्योंकि यह पन्ना रत्न आपको हर मुकदमे से जितने कि शक्ति देगा । जब व्यक्ति को तमाम सारी समस्याओं से जूझना पड़ता है तो ऐसे में कई व्यक्ति आत्महत्या करने की सोचते है उन व्यक्तियों के लिए तो यह पन्ना रत्न बहुत ज्यादा जरूरी है क्योंकि यह पन्ना रत्न इन परेशानियों से लडने की शक्ति देता है । और व्यक्ति की इन गंदी सोंचो को खत्म करता है । लेकिन जब भी कोई व्यक्ति इस पन्ना रत्न को धारण करे तो उससे पहले वह किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अपनी कुंडली ज़रूर दिखवा लें । 

( नोट :-यदि कोई व्यक्ति अपनी कुंडली दिखवाना चाहता है तो वह हमारे ज्योतिष आचार्य श्री दीपांशु सिंह कुशवाह जी से दिखवा सकता है ) 

पन्ना रत्न (PannaRatna) के नुक्सान

इस पूरे संसार में जितने भी रत्न पाए जाते है उन सभी रत्नों के जितने फायदे होते है उससे कई गुना ज्यादा नुकसान भी होते है । ऐसे ही पन्ना रत्न (PannaRatna) के बहुत से नुकसान है । आइए में आपको नीचे दिए गए बिंदुओं में बताता हूं कि यदि पन्ना रत्न विधि पूर्वक न पहनने से व्यक्ति को क्या क्या नुकसान हो सकते है । तो आप सभी नीचे दिए गए बिंदुओं को कृपया ध्यान पूर्वक  पढ़े ।

  1. इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को वो लोग कभी ना धारण करे जिनकी कुंडली में बुध अच्छी स्थिति में नहीं बैठा है । ऐसे व्यक्तियों को अपने निजी जीवन में बहुत सी समस्याओं से सामना करना पड़ता है लेकिन आप ये ना सोचे की ये पन्ना रत्न आपको फायदा देगा । जब बुध का आपके उपर बुरा प्रभाव होता है तो इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को पहनने से और ज्यादा परेशानी होती है । इसलिए कभी भी पन्ना रत्न धारण  करने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिष को आप अपनी कुंडली जरूर दिखवा लें । 
  1. ऐसे लोग जो हमेशा किसी भी बात को कहने में झूठ का सहारा लेते है और हमेशा बुरी बाते करते है और गंदे काम करते है । तथा ऐसे व्यक्ति जिनकी आदत बातों को बढ़ा चढ़ा कर कहने की होती है । ऐसे व्यक्तियों को तो भूलकर पन्ना रत्न (PannaRatna) नहीं पहनना चाहिए।  क्योंकि  यदि वे पहन भी लेंगे तो उन्हें इसके सिर्फ बुरे प्रभाव ही सहने पड़ेंगे अच्छे नहीं इसलिए इसे कभी ना पहने। 
  1. ऐसे व्यक्ति जो हमेशा लड़ाई करते रहते है जुआ खेलते है और हमेशा बुराई का साथ देते है । लड़ाई करने के लिए छोटी सी बात को बड़ा बना देते हैं । उन्हें इस रत्न (PannaRatna) को धारण नहीं करना चाहिए क्योंकि ये उनके लिए बहुत ज्यादा हानिकारक हो सकता है । बाकी आप हमारे या किसी अच्छे ज्योतिषी से आफ्नै कुंडली दिखवा के ल्क्की स्टोन पहन सकते है। 
  1. इस पन्ना रत्न को वो लोग ना पहने जो हमेशा दूसरों का बुरा सोचते रहते है या दूसरों के लिए कोई साज़िश करते रहते है।  ऐसा लोगों को इस पन्ना रत्न से परहेज करनी चाहिए । हां ये लोग पन्ना रत्न (PannaRatna) पहन तो सकते है लेकिन किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य के परामर्श से । 
  1. यह पन्ना रत्न उन व्यक्तियों के लिए बहुत हानि कारक हो सकता है जो लोग चोरी चकारी करते रहते है । या कभी चोरी की हो तो ऐसे व्यक्तियों को पन्ना रत्न न पहनने की सलाह दी जाती है । क्योकि  ऐसे व्यक्ति जो चोरी करते है उनकी ये आदत छूटती नहीं है इसलिए ये लोग पन्ना रत्न (PannaRatna) ना पहने तो इनके लिए ज्यादा  अच्छा होगा । 
  1. ऐसे लोग जो नशा पत्ती करते है । या फिर कोई ऐसे व्यक्ति जो किसी तरह की एलर्जी से जूझ रहे है वे लोग इस पन्ना के बुरे प्रकोप से बचना चाहते है तो किसी ज्योतिष आचार्य से पूंछ सकते है की पन्ना रत्न (PannaRatna) आपके लिए हानिकारक है या लाभदायक है ।
  1. यह पन्ना रत्न (PannaRatna) उन लोगों के लिए लाभदायक होता है जिन लोगो की कुंडली में बुध कमजोर होता है । लेकिन यह रत्न वो लोग ना पहने जो बुद्धि में बहुत तेज है । या फिर सभी कार्यों में निपुण है तो उन्हें इस रत्न के न पहनने की सलाह दी जाती है ।

पन्ना रत्न (PannaRatna) कितने रत्ती का पहनना चाहिए और इसकी विधि 

यदि कोई व्यक्ति इस रत्न को पहली बार धारण करता है तो वह कम से कम 5 रत्ती का पन्ना रत्न (PannaRatna) पहने क्युकी इससे कम का अगर आप पहनते है तो आपको ये लाभ नहीं देगा । इस पन्ना रत्न को सोने या चांदी की किसी धातु में मढ़बाकर पहने और यदि आप इस पन्ना रत्न को किसी और धातु में पहनते है तो भी यह आपको लाभ देगा । यह पन्ना रत्न (PannaRatna) 5 कैरेट से लेकर बहुत से प्रकार का होता है । और इस रत्न को धारण करने के बाद अपना असर लगभग 40 से 45 दिन के अंदर दिखाने लगता है । और इस पन्ना रत्न को जो भी व्यक्ति पहनते है उसके ऊपर इसका असर सिर्फ 1-3 साल तक ही होता है इसके बाद यह अपना असर दिखाना बंद कर देता है । इसलिए पन्ना को आप हमेशा बदलते रहे । यानि  व्यक्ति को दूसरा पन्ना रत्न धारण करना चाहिए । यह पन्ना रत्न (PannaRatna) बुध का रत्न है । इस रत्न को पहनने से पहले इस पन्ना रत्न को गाय के कच्चे दूध में या गंगाजल से धोकर , कुछ देर रखकर इसका शुद्धिकरण कर लें इसके बाद भगवान विष्णु के ऊपर पीले फूल चढाय और किसी सुगंधित धूप या अगरबत्ती को सात बार उनके सामने घुमाकर लगा दें । क्योंकि   भगवान विष्णु बुध ग्रह के आदि देवता है । और फिर इसके बाद बुध ग्रह के एक सीक्रेट मंत्र का जाप करके ही  पहनना चाहिए  । इसके बाद इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को बुधवार के दिन या रेवती नक्षत्र में पहना जा सकता है । याद रखे रत्ना जागृत होना चाहिए तभी कम करेगा अन्यथा नहीं । 

पन्ना रत्न (PannaRatna) और उसका 12 राशियों पर प्रभाव 

यह पन्ना रत्न बुध का रत्न है और यह रत्न व्यक्ति को अच्छा बनाता है , उसको सद्बुद्धि देता तथा उसकी वाणी में मधुरता आती है । लेकिन ज्योतिष विद्या के आधार पर यह पन्ना रत्न (PannaRatna) सभी राशियों के लिए उचित भी नहीं है क्योकि इसका अच्छा प्राभव कुछ राशियों पर ही पड़ता है । इसलिए मैं सभी पाठकों से यही कहना चाहूंगा कि इस पन्ना रत्न धारण करने से पहले अपनी कुंडली किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य को अवश्य दिखवा लें । क्योकि भिन्न भिन्न राशियों पर पन्ना रत्न (PannaRatna) के भिन्न भिन्न प्रभाव  मैं आपको नीचे दिए गए बिंदुओं में बताऊंगा इसलिए सभी बिंदुओं को ध्यान पूर्वक पढ़ें ।  

मेष राशि  

इस राशि के व्यक्तियों को यह पन्ना रत्न (PannaRatna) बहुत हानि पहुँचाता है । इसलिए इस राशि के लोगों को पन्ना रत्न न पहनने की सलाह दी जाती है । बाकी अगर बुध अच्छा है और आचार्य जी कहते है तो आप पहन सकते है 

वृषभ राशि 

इस राशि के जातकों को यह पन्ना रत्न (PannaRatna) लाभ देगा इसलिए इस राशि के व्यक्ति पन्ना रत्न धारण कर सकते है लेकिन इन्हें इस पन्ना रत्न के साथ साथ सफेद पुखराज या तो फिर हीरा अवश्य पहनना होगा तभी यह पन्ना रत्न आपको लाभ देगा । फिर भी आचार्य जी से पूछना ज्यादा  अच्छा रहेगा । 

मिथुन राशि 

इस राशि के लोगों के लिए यह पन्ना रत्न (PannaRatna) बहुत ल्क्की होता है क्योंकि  यह उन व्यक्तियों की जन्म राशि का रत्न होता है इसलिए यह उन्हें बहुत फायदा देता है । और उन्हें जीवन में समस्याओं से लड़ने की शक्ति देता है । फिर भी आचार्य जी से पूछना ज्यादा  अच्छा रहेगा । 

कर्क राशि

 इस राशि के लोगों पर पन्ना रत्न (PannaRatna) के स्वामी बुध का बुरा प्रभाव पड़ता है । क्योंकि यह उन्हें समस्याओं के अलावा और कुछ नहीं देता इसलिए इस राशि के लोगों को पन्ना रत्न बिल्कुल नहीं धारण करना चाहिए । फिर भी आचार्य जी से पूछना ज्यादा  अच्छा रहेगा । 

सिंह राशि 

इस राशि के लोगों के लिए यह पन्ना रत्न (PannaRatna) बहुत ही ज्यादा लाभकारी होता है क्योंकि जब व्यक्ति इसे धारण कर लेता है तो उसके जीवन में उसे हर काम में सफलता प्राप्त होती है इसलिए इस राशि के जातक पन्ना रत्न अवश्य पहने ।

कन्या राशि

इस राशि के लोगों का यह पन्ना रत्न राशि का रत्न होता है इसलिए जब इस राशि के जातक पन्ना रत्न (PannaRatna) धारण कर लेते है तब उन्हें विविध क्षेत्रों में सफलता प्राप्त होती है । तो इस राशि के जातकों को पन्ना ज़रूर पहनना चाहिए ।

तुला राशि 

इस राशि के जातकों को इस पन्ना रत्न का लाभ तो मिलता है लेकिन जब वे इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को हीरे के साथ पहनते है । इसलिए पन्ना के साथ हीरा ज़रूर पहने ताकि आप इससे होने वाले सभी फ़ायदों का लाभ उठा सकें । फिर भी आचार्य जी से पूछना ज्यादा  अच्छा रहेगा । 

वृश्चिक राशि 

इस राशि के व्यक्तियों के लिए यह पन्ना रत्न लाभकारी तो होता है लेकिन कभी कभी इसके व्यक्ति को दुष्परिणाम भी सहने पड़ जाते है इसलिए इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को पहनने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिष से परामर्श अवश्य ले लें कि यह आपके लिए हानिकारक है या लाभदायक ।

धनु राशि 

इस राशि के लोगों को पन्ना रत्न (PannaRatna) पहनना चाहिए लेकिन इसके अच्छे परिणाम पाने के लिए इसके साथ पुखराज रत्न अवश्य पहनना चाहिए ताकि यह आपको बहुत ज्यादा लाभ पहुंचा सके । फिर भी आचार्य जी से पूछना ज्यादा  अच्छा रहेगा । 

मकर राशि

इस राशि के जातकों को तो यह पन्ना रत्न भगवान के दिए हुए वरदान के समान है क्योंकि व्यक्ति इसे कभी भी पहन सकता है । चाहे उस कोई परेशानी हो या ना हो इसलिए इस राशि के व्यक्ति बिना किसी चिंता के पन्ना रत्न (PannaRatna) पहन लें ।फिर भी आचार्य जी से पूछना ज्यादा  अच्छा रहेगा । 

कुंभ राशि 

इस राशि के लोग पहले तो इसे पहनने से पहले किसी अनुभवी ज्योतिष से परामर्श ले लें उसके बाद इस पन्ना रत्न को धारण करे लेकिन यदि व्यक्ति इस पन्ना रत्न के अच्छे परिणाम चाहता है तो वह इस पन्ना रत्न (PannaRatna) के साथ साथ नीलम रत्न को अवश्य पहने ।

मीन राशि 

इस राशि के लोगों के लिए यह पन्ना रत्न (PannaRatna) हानिकारक हो सकता है यदि वे इसे अकेला पहनते है क्योंकि यह उन्हें सिर्फ नुकसान पहुँचाएगा । अगर आप चाहते हो कि यह रत्न आपको फायदे दे तो आपको किसी अनुभवी ज्योतिष से पूंछ कर इसके साथ कोई सा दूसरा रत्न पहनना होगा तभी यह पन्ना रत्न (PannaRatna) आपको लाभ पहुंचाया । और जब आप पन्ना को किसी अन्य रत्न के साथ पहन लेंगे तो आपको इसके सारे अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे । 

एक विशेष जानकारी –  मैं सभी पाठकों से यही कहना चाहूँगा कि यदि आप किसी भी रत्न (PannaRatna) को धारण करना चाहते है तो इससे पहले किसी भी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से पूंछ लें उसके बाद ही रत्न धारण करें ।  

पन्ना रत्न (PannaRatna) का असली तथा नकली होना 

अगर हम असली पन्ना रत्न कि बात करें तो यह बहुत मुलायम तथा टिकाऊ होता है। इस रत्न में कार्बन के मिश्रण की वजह से इसकी बाहरी स्तरों पर काले धब्बे होते है । इस पन्ना रत्न (PannaRatna) को पहचानने के ये सबसे आसान तरीके है । क्योंकि जो नकली पन्ना होता है वह बहुत कठोर होता है । इस रत्न की बाहरी स्तरों पर कुछ दरारें सी होती है लेकिन इन दरारों की वजह से इस पन्ना रत्न (PannaRatna) की गुड़वत्ता पर कोई असर नहीं पड़ता है । अगर आप असली या नकली पन्ना रत्न की पहचान करना चाहते है तो नीचे दिए हुए बिंदुओं को ध्यान पूर्वक पढ़ें । 

  1. यदि असली पन्ना रत्न (PannaRatna) को हम लेते है और अपनी आंख के उपर रखे तो इस रत्न से हमारी आंख को बहुत ठंडक महसूस होती है । लेकिन यदि पन्ना रत्न नकली है तो इसमें हमे  गर्माहट महसूस होती है । 
  1. अगर हम असली पन्ना रत्न (PannaRatna) को किसी कांच के बर्तन में पानी भरकर इस रत्न को उसमे डालते है तो उस रत्न में से निकलने वाली तरंगों में हमें विकिरण देखने को मिलता है । लेकिन नकली पन्ना में हमें ऐसा कुछ भी देखने को नहीं मिलता है । 
  1. अगर हम असली पन्ना (PannaRatna) के ऊपर कोई पानी की बूंद रखे तो वह एक जगह स्थित रहती है । जबकि नकली पन्ना में पानी की बूंद बिखर जाती है ।

हमेशा से Dsk Astrogy के ज्योतिष आचार्य दीपांशु सिंह कुशवाहा जी असली और प्रमाणित  रत्न उपलब्ध कराते है । अगर आप किसी भी रत्न को खरीदना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट के माध्यम से खरीद सकते है । हमारे यहां उपलब्ध कराए जाने वाली रत्न 100% शुद्ध होते हैं ।  यह भी हम सुनिश्चित करते है । हमारे यहां मिलने वाला हर रत्न (PannaRatna) लैब द्वारा प्रमाणित होता है हमारे यहां मिलने वाले हर रत्न का आकार निश्चित होता है । और हमारे यहां पाए जाने वाले सभी रत्नों कि क्वालिटी चेक होने के बाद ही कॉस्टमर को दिया जाता है । हमारे पास पन्ना रत्न (PannaRatna) की सही कीमत तथा असली और बाजार के रेटों से कम कीमत में मिलता है । मैं आशा करता हूं कि आप हमारे यहां से असली व प्रमाणित रत्न ले सकेंगे ।

पन्ना रत्न (PannaRatna) का विकल्प उपरत्न 

पन्ना रत्न (PannaRatna) एक ऐसा रत्न है । जिसकी बाजार में कीमत बहुत अधिक है इसलिए कभी कभी बहुत से व्यक्ति इस पन्ना रत्न को खरीद नहीं पाते कभी कभी क्या होते है व्यक्ति खरीद लेता है अगर तो वह नकली होता है या फिर उसने कोई ना कोई कमी होती है इसलिए इस पन्ना रत्न के जैसे दिखने वाले इसके उपरत्न जो व्यक्ति आसानी से के सकता है इनकी कीमत भी कम होती है और ये बाजार में आसानी से मिल भी जाते है । कुछ पन्ना रत्न (PannaRatna) के उपरत्न जिनके नाम कुछ इस प्रकार है । 

  1. हरा बैरूज
  2. ओनेक्स
  3. मरगज

इस पन्ना रत्न (PannaRatna) के उपरत्नों में सबसे ज्यादा प्रभावशाली एवं शाक्तिशाली उपरत्न मरगज ही है । ये ऐसे उपरत्न होते है जिन्हें व्यक्ति आसानी से खरीदकर पहन सकता है । तथा ये बाजार में आसानी से मिल जाते है । पर सिर्फ रत्न खरीद के पहन लेने से कुछ नहीं होता क्योंकि रत्न को जागृत करना भी बहुत ज़रूरी है जो सिर्फ एक अच्छा ज्योतिषी ही कर सकता है । 

पन्ना रत्न (PannaRatna) से साबधानियां 

यह पन्ना रत्न (PannaRatna) बुध का रत्न है । जिस व्यक्ति की कुंडली में बुध की ग्रह दशा ठीक ना हो ।  यह पन्ना रत्न बुद्धि को बढ़ाता है।  इसलिए इसे धारण करते वक्त ये सावधानियां ज़रूर बरतें । 

  1. यदि व्यक्ति इसे धारण करता है तो पहले तो वह ये देख ले की पन्ना रत्न (PannaRatna) शुद्ध है या नहीं यदि नहीं पाता तो किसी ज्योतिष आचार्य को दिखा लें ।
  2. जब व्यक्ति इसे धारण करे तो उसे इसकी पूरी विधि पता होनी  चाहिए कि यह रत्न (PannaRatna) कैसे पहना जाएगा । यदि विधि पूर्वक नहीं पहना तो व्यक्ति के उपर इसके नकारात्मक प्रभाव देखने को मिलेंगे । 
  3. जब भी व्यक्ति इसे (PannaRatna) पहने तो उससे पहले किसी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से अपनी कुंडली को दिखवा ले ताकि ये पता चल सके की यह रत्न आप पहन सकते हो या नहीं।  
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments