राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 | Rahu Gochar 2021-2022 Rashifal |राहु गोचर 2021-2022

Table of Contents

ज्योतिष के अनुसार राहु ग्रह के शुभ परिणाम 

राहु गोचर 2020 ( राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022) को शुरू करने से पहले मैं आपको राहू के बारे में थोड़ा बताना चाहूँगा । राहु को वैदिक ज्योतिष में छाया ग्रह के नाम से जाना जाता है ।  इसका मतलब यह हुआ की राहु कोई पूरण ग्रह नही है वल्कि एक छाया मंत्र है पर छाया होते हुए भी यह बहुत ज्यादा प्रभावी ग्रह होता है । क्योकि राहु एक छाया ग्रह है इसलिए इसको किसी भी राशि का स्वामित्व नही मिला है । यानी हम कह सकते है की राहु के पास किसी भी राशि का घर नही है । इसी वजह से राहु कभी उच्च या नीच नही होता है । यह सिर्फ कुछ राशियों में खुश महसूस करता है तथा कुछ राशियों में दुखी  जैसे की राहु वृषभ राशि , मिथुन राशि और कन्या राशि में बहुत खुश होता है जबकि वृश्चिक राशि , धनु राशि  और मीन राशि में एकदम दुखी ।राहु ग्रह ज्योतिष के अनुसार व्यक्ति की कुंडली में एक पाप में रत रहने वाला ग्रह माना जाता है तथा इसको ज्योतिष शास्त्र में क्रूर ग्रह की संज्ञा भी दी गई है । इसलिए इस राहु ग्रह को वैदिक ज्योतिष में जुआ , कठोर वाणी , यात्राएं , चोरी , दुष्कर्म , धार्मिक यात्राएं तथा त्वचा के रोग आदि का कारक कहलाता है । जब यह राहु ग्रह व्यक्ति की कुंडली में अशुभ स्थान में हो या फिर पीड़ित हो तो यह राहु ग्रह इस व्यक्ति को अपने सभी नकारात्मक प्रभाव ही देता है । इस राहु ग्रह को ज्योतिष में किसी भी राशि का स्वामी नहीं बनाया गया  इस कारण इस ग्रह को किसी भी राशि का स्वामित्व प्राप्त नहीं है । लेकिन यह ग्रह मिथुन राशि में सबसे अच्छा महसूस करता है तथा धनु राशि में उतना ही खराब होता है । यह राहु ग्रह 27 नक्षत्रों में से आद्रा , स्वाती और  शतभिषा नक्षत्रों का स्वामी है । इस ग्रह को ज्योतिष में एक छाया ग्रह कहा जाता है वो इसलिए क्योकि जब सूर्य और प्रथ्वी के बीच चंद्रमा आता है और इस चंद्रमा का मुंह सूर्य की ओर होता है तब प्रथ्वी पर पड़ने वाली चंद्रमा की छाया राहु ग्रह का प्रतिनिधि का कार्य करती है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु काल 

हिन्दू पंचांग के माध्यम से , राहु ग्रह के प्रभाव से दिन में एक अशुभ समय की अवधि होती है जिसमें अच्छे कामों को करना माना होता है । इसी अवधि को राहु काल कहते है  । इस अवधि का समय लगभग डेढ़ घण्टे का होता है । लेकिन स्थान एवं तिथि के अनुसार इसमें अन्तर देखने को मिलते है ।  ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

मनुष्य के जीवन पर ज्योतिष के आधार पर राहु ग्रह का प्रभाव  

  1. मनुष्य का स्वभाव एवं शारीरिक रचना 

वैदिक ज्योतिष के आधार पर जिस व्यक्ति की कुंडली में स्थित लग्न भाव में राहु होता है तो वह मनुष्य सुंदर एवं  आकर्षक व्यक्तित्व मत वाला होता है । व्यक्ति मेहनत के काम से पीछे नहीं हटता है । व्यक्ति की कुंडली में लग्न का राहु साहसी एवं समाज में प्रभावशाली बनाता है । यद्यपि इसके प्रभाव बहुत हद तक लग्न में स्थित राशि पर निर्भर करता है । लेकिन ज्योतिष के आधार पर ऐसा माना जाता है कि लग्न का राहु व्यक्ति के वैवाहिक जीवन के माफिक नहीं होता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. बली राहु –

राहु ग्रह को लेकर ज्योतिष में ऐसा कहा जाता है कि यदि राहु किसी व्यक्ति कि कुंडली में अच्छा है तो वह व्यक्ति की किस्मत बदल देता है या हम का सकते है राहु व्यक्ति की किस्मत चमका देता है और जब राहु व्यक्ति की कुंडली में मजबूत होता है तो वह व्यक्ति को तेज बुद्धि का बना देता है । इन सबके कारण व्यक्ति को समाज में मान सम्मान , यशकिर्ती तथा वैभव प्राप्त हो जाता है । और व्यक्ति इस राहु के प्रभाव से अपने धर्म का पालन करने लगता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. पीड़ित राहु –

यदि व्यक्ति की जन्म कुंडली में राहु पीड़ित हो तो व्यक्ति को राहु के सभी नकारात्मक प्रभाव ही सहने पड़ते है । यह पीड़ित राहु व्यक्ति को गलत रास्ते पर ले जाता है तथा बुरी आदतों को पैदा करता है जैसे व्यक्ति शराब , मांस तथा अन्य मादक पदार्थों का सेवन करने लगता है । इस राहु के पीड़ित होने के कारण व्यक्ति छल , कपट और धोखा करने लगता है तथा यह व्यक्ति को अधर्मी बना देता है । इस राहु के बुरे प्रभाव के कारण व्यक्ति दूसरों को परेशान करने लगता है । यदि जब व्यक्ति के साथ ऐसा सब बहुत ज्यादा होने लगे तो व्यक्ति को राहु से सम्बंधित उपाय अवश्य करने चाहिए । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. रोग-

यह राहु व्यक्ति की कुंडली में पीड़ित  होने के कारण व्यक्ति को बहुत सी शारीरिक समस्याए देता है । इससे राहु व्यक्ति के स्वास्थ पर नकारात्मक प्रभाव डालता है जिससे व्यक्ति को पागलपन , आंतो की समस्या , हिचकी तथा अल्सर आदि बीमारियों से जूझना पड़ता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. व्यक्ति का व्यवसाय व कार्य – 

इस राहु गृह के प्रभाव के द्वारा राजनीतिक , आखेट , कानून से सम्बंधित कार्य , बुरे कर्म , सेवा , चोरी , जादूगर , हिंसा  आदि कार्यों को ज्योतिष में दिखाया जाता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. उत्पाद : –

इसमें भी राहु के द्वारा शराब , मांस , गुटखा , सिगरेट , बीड़ी आदि तथा अन्य सभी मादक पदार्थों को ज्योतिष में दर्शाया जाता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. स्थान :-

इसमें भी राहु के द्वारा शराब की दुकान , जुआ का अड्डा , कूड़े का ढेर आदि स्थानों को ज्योतिष में दर्शाया जाता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

  1. जानवर तथा पशु पक्षी –

राहु के द्वारा  जहरीले जीव , काले अथवा भूरे रंग के पक्षियों को ज्योतिष में दिखाया जाता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022))

  1. जड़ी – 

नागरमोथ की जड़ ।

  1. रत्न –

गोमेद ।

  1. रुद्राक्ष-

आठमुखी रुद्राक्ष ।

  1.  यंत्र –

राहु यंत्र । 

  1. रंग –

गहरा नीला । 

  1. मंत्र –
राहु का वैदिक मंत्र 

ॐ कया नश्चित्र आ भुवदूती सदावृध: सखा। कया शचिष्ठया वृता ।।

राहु का तांत्रिक मंत्र

ॐ रां राहवे नमः

राहु का बीज मंत्र

ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः

राहु केतू के सरल उपाय | Rahu Ketu ke Saral Upay

धार्मिक दृष्टि से राहु ग्रह का महत्व 

इस राहु ग्रह को धार्मिक द्रष्टि से  बड़ी श्रेष्टता दि जाती है ।  इस राहु को इतनी महत्वता पौराणिक कथा के माध्यम से दि जाती है । इसके अनुसार कहा जाता है की जब समुद्र मंथन हुआ था तब अमृत से भरा एक कलश बाहर निकला तो अमृत ग्रहण करने के लिए देवताओं और असुरों के बीच लड़ाई होने लगी । तब भगबान विष्णु ने एक चाल चली जिसमे उन्होंने मोहिनी रूप धारण किया और देवता तथा असुर दोनों को अलग अलग बैठाया । ऐसे में असुर मोहिनी के रूप को देख कर उसके मोह में फस गय तथा सब कुछ भूल गय और तभी मोहिनी ने  देवताओं में अमृत बाँट दिया ।   ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

लेकिन ऐसे में एक स्वर्भानु नामक असुर जो की अमृत ग्रहण करने के लिए अपना वेश बदलकर देवताओं के बीच बैठकर अमृत के घूंट पीने लगा तभी सूर्य और चन्द्रमा को पता चला की ये असुर है जिससे उन्होंने  तुरंत जाकर भगवान् विष्णु को जाकर बताया की देवताओं के बीच एक असुर बैठा अमृत ग्रहण कर रहा है  जिससे भगवान् विष्णु ने अपने शुदर्शन चक्र से उस असुर का सर धड से अलग कर दिया जिससे उसके दो भाग हुए  , इन्ही दो भागों को ज्योतिष में  राहु  (सर ) और केतु (धड )  ग्रह के नाम से जाना जाता है  । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए आप समझ सकते है की धार्मिक द्रष्टि के साथ साथ ज्योतिष में भी राहु और केतु को कितनी श्रेस्ठता  दि जाती है  ।  इसी के साथ ज्योतिष शास्त्र में कहा जाता है की जिस व्यक्ती की कुंडली में  स्थित 12 भाव उसके सम्पूर्ण जीवन को दर्शाते है  तथा जब उस व्यक्ति पर इन ग्रहों का  असर पड़ता है वो भी ज्योतिष में दिखाया जाता है  । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

वैदिक ज्योतिष शास्त्र में राहु ग्रह का 12 भाव में राशिफल

  1. प्रथम भाव में  राहु ग्रह के परिणाम  
राहु गोचर 2020

इस यदि राहु गृह व्यक्ति के प्रथम भाव यानी तनु भाव में है तो व्यक्ति को ऐसे में इस राहु के प्रभाव व्यक्ति के ऊपर अच्छे तथा बुरे दोनों पड़ते है ।  यदि व्यक्ति परोपकारी और धैर्यवान है तो यह राहु ग्रह व्यक्ति के कद को ऊंचा बना देता है । व्यक्ति कभी तो रोगों से मुक्त होगा तो कभी रोगों से घिरा होगा । इस राहु के प्रभाव से आपको धन संपत्ति की कमी नहीं रहेगी । इस राहु ग्रह के अच्छे प्रभाव से व्यक्ति को धन कहीं ना कहीं से प्राप्त होता रहेगा तथा वह किसी ना किसी तरह से पैसे बहुत ज्यादा कमाएगा और अन पैसों से दूसरों को भी बहुत लाभ पहुंचायगा तथा व्यक्ति दूसरों का धन अपने लिए उपयोग करेगा । जिससे उस व्यक्ति का आत्मविश्वाश बढ़ जाता है । और व्यक्ति अपने जीवन में तथा इस संसार से विभिन्न प्रकार के उपयोग में लाए जाने वाले भोगों का भी उपभोग करेगा तथा व्यक्ति का वेष भूषा इस ब्रह्माण्ड के सभी व्यक्तियों में सबसे ज्यादा प्रभावशाली रहेगी । व्यक्ति अपने से बड़ों का बहुत ही आदर सम्मान करेगा तथा उनसे बहुत अच्छा व्यवहार भी करेगा । इस राहु के प्रभाव से व्यक्ति छोटे लेवल के होकर भी बड़ी सोच रखेंगा तथा बड़ा लेवल भी प्राप्त कर पाएगा तथा लोगों कि नज़रों में महान बन जाएगा । ऐसे में व्यक्ति का ध्यान मेहनत के काम काज को करने में बहुत अच्छे से लगेगा लेकिन पढ़ाई के काम काज तथा शिक्षा में बिल्कुल भी मन नहीं लगेगा लेकिन इसके बावजूद भी व्यक्ति अपना काम दूसरों से करवाने में सक्षम होंगा और हर काम में अपना व्यवहार बहुत अच्छा बनाएगा  तथा अपना काम भी बहुत अच्छे से कर पाएगा । ऐसे व्यक्ति अपने वादे को पूरा करने के लिए कुछ भी कर सकते है लेकिन अपना बाड़ा नही तोड़ते और अपने हर वादे को पूरा करने में विश्वास रखते हैं। यदि व्यक्ति बुद्धिमान और व्यवहार कुशल  है लेकिन यहां स्थित राहू के कुछ अशुभ परिणाम भी कहे गए हैं अत: व्यक्ति को बेवजह किसी न किसी के उपर शक करने की आदत हो सकती है। अच्छे को बुरा और बुरे को अच्छा समझने का बहम भी  रह सकता है । ऐसे में व्यक्ति  चाहेंगा कि हर व्यक्ति उसके निर्देशों का पालन करें लेकिन इस कारण व्यक्ति लोगों की नजरों से गिर सकता हैं । इसी कारण ज्योतिष में कहा जाता है की जिस वयकति कि कुनदलि मे राहु यदि मजबुत है  उस व्यक्ति के उपर यह राहु ग्रह अपना अच्छा प्रभाव दिखता है तथा  उस व्यक्ति की किस्मत बदल देता है लेकिन जिस व्यक्ति की कुंडली में राहु कमजोर है तो उस व्यक्ति के उपर राहु ग्रह अपना प्रभाव बुरा दिखता है जिससे व्यक्ति बर्बादी की ओर बढ़ जाता है । इसीलिए  ज्योतिष में इस राहु ग्रह को क्रूर ग्रह बताया जाता है  ।  ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

2. द्वतिय भाव में राहु ग्रह के परिणाम  

राहु गोचर 2020
225

 जब व्यक्ति की कुंडली में राहु ग्रह द्वतिय भाव में यानी धन भाव में होता है तो व्यक्ति को इस राहु ग्रह के अच्छे तथा बुरे दोनों प्रभाव सहने पड़ते है । ऐसे में व्यक्ति को धन की प्राप्ति होगी क्यूंकि इस राहु के प्रभाव के कारण व्यक्ति का स्वभाव बदल जाता है ।  वह व्यक्ति लोगों के साथ बहुत अच्छा व्यवहार करता है जिससे दूसरे व्यक्तियों को आप पर बहुत ज्यादा भरोसा होता है । ये सभी बातें व्यक्ति को इस बात का संकेत देती है कि यदि उसका व्यवहार ऐसा ही रहा तो वह बहुत जल्द धनवान हो जाएगा । उस व्यक्ति को सरकारी कामों में बहुत अच्छा धन मिलेगा तथा किसी सेठ आदमी के साथ उसका लेनदेन होगा जिससे उस व्यक्ति को बहुत फायदा होगा । ऐसे व्यक्ति को अपने परिवार का बहुत सपोर्ट मिलता है तथा पारिवारिक सुख भी प्राप्त होता है । ऐसे व्यक्ति की बाणी में कड़वाहट आ जाती है । जिससे व्यक्ति को सम्मान कम मिलने लगता है ।  लेकिन यदि इसका बुरा प्रभाव व्यक्ति पर पड़ा तो व्यक्ति को चहरे में समस्या हो सकती है जैसे उसके चहरे पर किसी प्रकार का दाद या फिर मुहांसे जैसी प्रॉब्लम हो सकती है । 

ज्योतिष में कहा जाता है कि यह राहु ग्रह विदेश से धन कमाने में बहुत सहायता करता है । इसके प्रभाव से व्यक्ति के पुराने से पुराने शत्रुओं का विनाश हो जाता है । ऐसे में व्यक्ति अपने जीवन में देश विदेश घूमना चाहता है लेकिन अपने रोजमर्रा के काम काज से घूमने की फुर्सत ही नहीं मिलती है । जिससे व्यक्ति घूमने तथा  व्यक्ति के सभी  सौख पूरे करने में रुकावट डालते है ये काम । ऐसे व्यक्ति जिनकी कुंडली में राहु अशुभ फल देता है उन्हें अपने जीवन में संतान को लेके बड़ी समस्याओं से जूझना पड़ता है । तथा ऐसे व्यक्ति झूठ बोलने में बहुत ज्यादा विश्वास रखते है उन्हें लगता है कि वो हर काम झूठ बोलने से आसानी से कर सकता है । व्यक्ति गलत रास्तों को चुन लेता है जिससे वह माश मदिरा का सेवन करने लगता है और वह अपने धन का दुरपयोग करने लगता है ।  जिससे वह अपने पूर्वजों कि धन संपत्ति का नाश कर देते है ।  जिससे व्यक्ति की आर्थिक स्थिति खराब हो जाती है वह बर्बादी की ओर बढ़ने लगता है और उसकी सारी जायदाद , धन सबका नाश हो जाता है । इसीलिए इस राहु ग्रह को क्रूर ग्रह कहा जाता है क्यूंकि जब राहु व्यक्ति की कुंडली में मजबूत होता है तो व्यक्ति को धन , यश , कीर्ति तथा वैभव प्राप्त हो जाता है । लेकिन जब राहु व्यक्ति की कुंडली में कमजोर होता है तो यह व्यक्ति को गलत रास्ते पे ले जाता है । जिससे व्यक्ति का संपूर्ण जीवन तबाह हो जाता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

3. तृतीय भाव में राहु ग्रह का परिणाम  

राहु गोचर 2020

 जब व्यक्ति के ऊपर राहु ग्रह का प्रभाव उसकी कुंडली के तृतीय भाव में पड़ता है तब व्यक्ति को तृतीय भाव में स्थित राहु को दुःख का नाश करने वाला ग्रह माना जाता है । इस कारण व्यक्ति रोगों से मुक्त तथा ताकतवर हो जाता है । व्यक्ति के अंदर बाहुबली के जैसी ताकत होती है  । ऐसे व्यक्ति बहुत वीर और साहसपूर्ण कार्य करने वाला होता है । ऐसे व्यक्ति बहुत ज्यादा ज्ञानी और भाग्य के तेज होते है । इन व्यक्तियों के अंदर बहुत बुद्धि होती है तथा ऐसे लोग बहुत ही चालक स्वभाव के होते हैं । ऐसे व्यक्तियों का नाम बहुत दूर दूर तक होता है । व्यक्ति को भगवान , दान , पुण्य , प्रतिष्ठित  , यश  इन सब पर बहुत ज्यादा विश्वाश होता है  ।  और ऐसे व्यक्ति सभी के साथ बहुत अच्छा व्यवहार करते है  औए व्यक्ति अपने से बड़े का बहुत आदर सम्मान करता है सबसे बहुत अच्छे से बात करता है  ।  व्यक्ति कभी भी किसी व्यक्ति के साथ जात पात या किसी भी चीज के लिए भेद भाव नही करता है  ।  व्यक्ति हमेशा सब के साथ ऐसा वर्ताब करता है जिससे  दुसरे व्यक्ति को सच और उचित तथा अनुचित का फर्क आसानी से पता चल जाय  ।  

 इस भाव में जब राहु ग्रह का व्यक्ति के उपर अच्छा प्रभाव होता है तो  व्यक्ति को किसी भी प्रकार की परेशानी नही होती है ।  क्यूंकि जब राहु ग्रह का अच्छा प्रभाव होता है तो व्यक्ति का भाग्य जाग उठता है जिससे व्यक्ति को किसी भी मुकाम पे पहुँचाने के लिए न ज्यादा प्रयास करने की आवश्यकता होती है और न ही ज्यादा मेहनत की जरुरत नही होती है  ।  इस राहु ग्रह के अच्छे प्रभाव के कारण व्यक्ति धन धन्य से भरपूर्ण हो जाता है जिससे उसके पास एक अच्छा घर नौकर -चाकर , गाडी  , बंगला आदि सब कुछ हो जाता है ।  

 लेकिन  यदि राहु ग्रह का बुरा प्रभाव पड़ा तो व्यक्ति बहुत घमंडी , आलसी  हो सकता है जिससे उसके पास मौजूद हर चीज उससे दूर जा सकती है ऐसे में व्यक्ति अपने भाइयों का बहुत ज्यादा विरोध करना लगता है  ।  इसीलिए कहा जाता है की यह राहु ग्रह एक क्रूर ग्रह है क्यूंकि इसके जब बुरे प्रभाव व्यक्गती के उपर पड़ते है तो व्यक्ति वर्बाद हो जाता है  ।  ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

4. चतुर्थ भाव में राहु ग्रह के परिणाम  

राहु गोचर 2020

जब राहु ग्रह व्यक्ति की कुंडली में चौथे भाव में होता है तब व्यक्ति को इस राहु के  अच्छे तथा बुरे दोनों प्रभाव पड़ते हैं  ।  इस राहु के अच्छे प्रभाव के कारण यह व्यक्ति को साहसी बना डेता है  ।  यह राहु  व्यक्ति को किसी राजा का प्रेमी बना सकता है और इसके साथ ही यह राहु व्यक्ति को राज सत्ता का सुख भी दिला सकता है  । व्यक्ति का किसी प्रसाशनिक  अध्यछ के कारण व्यक्ति का  हित में भी व्यवस्था हो सकती है   ।   यह राहु व्यक्ति को माँ का सुख भी दिलाता है  इससे व्यक्ति अति प्रसन्न रहता है  ।  व्यक्ति के पास तरह तरह के कपड़े  , आभूषण  आदि भरपूर्ण होते है  ।  

 इस राहु के प्रभाव से व्यक्ति वहा ज्यादा दिन तक नही रह पाटा है जहाँ उसका जन्म हुआ हो क्यूंकि यह राहु व्यक्ति को दुसरे शहर में ले जाके धनबान बनाता है ।  इस कारण व्यक्ति ज्यादातर विदेश में ही रहता है  ।  ऐसे व्यक्ति को अच्छी अच्छी जगहों पर घूमना का बहुत सौक होता है  । लेकिन यह राहु व्यक्ति को  तब रुकाबटे  देता है जब वह व्यक्ति ज्यादा उन्नति करने लगता है  ।   यदि व्यक्ति का कोई व्यवसाय है तो उसमे राहु फायदा तो देगा लेकिन ज्यादा उनाती नही कर पाता  है  व्यक्ति पर राहु नौकरी में बहुत ज्यादा मदद करता है  ।  और यह राहु तब बहुत ज्यादा फायदा देता है जब व्यक्ति कोई काम पार्टनरशिप में करता है  ।  

यह राहु उन महिलाओं , पुरुषों के लिए बहुत अच्छा होता है  जो व्यक्ति दूसरा विवाह करना चाहते है या फिर विवाह होते हुए भी किसी दुसरे के साथ सम्बन्ध रखते है यह राहु उन लोगों को भी सामने लाने में मदद करता है ।   ऐसे में व्यक्ति का जीवनसाथी  उसके बुरे समय में उसका पूरा साथ देगा और हमेशा उसकी मदद करेगा  ।  जिस व्यक्ति की कुंडली में राहु होता है उन व्यक्तियों के ज्यादा बेटे नही होते हैं  ।  लेकिन यह राहु ग्रह व्यक्ति को उसके आधे जीवन तक पूरा साथ देता है लेकिन  उसके बाद यह व्यक्ति को मानशिक तनाव बहुत ज्यादा देता है  क्यूंकि ऐसे में व्यक्ति के पास सब कुछ होता है लेकिन फिर भी उसका मन शांत नही रहता है ।  इसीलिए ज्योतिष में कहा जाता है की यदि व्यक्ति को राहु अच्छे परिणाम दे तो राहु अच्छा है और बुरे दे तो राहु बुरे है इसिलए इस राहु ग्रह को क्रूर गृह कहा जाता है ।  ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

5. पांचवे स्थान में राहु ग्रह के परिणाम  

राहु गोचर 2020

इस भाव में राहु व्यक्ति को बहुत तेज बुद्धि बाला बनाता है  तथा व्यक्ति को सभी प्रकार के शास्त्रों का ज्ञान हो जाता है  ऐसे व्यक्ति का स्वभाव बहुत ही अच्छा होता है वे बड़े दयालु होते हैं  इसीलिए ऐसे व्यक्ति बड़े भाग्यवान होते है  लेकिन इन व्यक्तियों  के जीवन में राहु जब बाधा डाल सकता है जब वे पुत्र  को प्राप्त करना चाहेंगे  लेकिन हाँ यदि  व्यक्ति चाहता है की उसकी पहली संतान पुत्र हो तो ऐसा नही होगा क्यूंकि ऐसे व्यक्ति की पहली संतान पुत्री ही हो सकती है ।  व्यक्ति किसी कंपनी में यदि काम करता है या उसमे उसकी कोई साझेदारी है तो वह उस कंपनी के माध्यम से सफल हो सकता है ।  ऐसे में व्यक्ति यदि लिखने का काम करता है तो वह उस काम से प्रसिद्ध भी हो जायगा और सफल भी लेकिन ऐसे में कभी कभी राहु ग्रह के बुरे प्रभाव व्यक्ति के उपर पडते  हैं जिससे राहु व्यक्ति के लिए अशुभ हो जाता है और यह व्यक्ति को दिमागी टेंशन देता है ।  उस व्यक्ति को संतान को दिक्कत हो सकती है ।  ऐसे में यह राहु व्यक्ति को निर्धन बना देता है तथा उसे शारीरक परेशानियाँ भी देता है जैसे अगर व्यक्ति का रंग साफ़ है तो वह काला हो सकता है ।  इस कारण व्यक्ति कभी कभी गलत रास्ता चुन लेता है ।  जिससे वह व्यक्ति अधिक चिंतित रहता है ।  व्यक्ति आम लोगो की तरह अपना जीवन यापन नही कर पायगा ।  इस राहु के बुरे प्रभाव के कारण व्यक्ति को पेट से सम्बंधित प्रोब्लम्स हो सकती है जैसे पेट में बहुत दर्द , सुजन या गैस जैसी समस्यां हो सकती हैं ऐसे में व्यक्ति को अपने ही जीवन साथी से भी कष्ट मिल सकता है ।  जिससे व्यक्ति का बहुत ज्यादा धन व्यय हो जाता है ।  इसीलिए इस राहु गृह को ज्योतिष में क्रूर ग्रह कहा जाता है ।  ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

6. छठे स्थान में राहु ग्रह के परिणाम 

राहु गोचर 2020

यहाँ स्थित राहु व्यक्ति को होने वाले अशुभ फलों का निवारण करता है अर्थात व्यक्ति को कष्टों से भी दूर करता है ।   ऐसे में व्यक्ति के जीवन में होने वाले सभी कष्ट खत्म हो जाते है ।  ऐसे व्यक्ति पुरुषार्थी होते हैं जो की वीर पुरुष कहलाते हैं ।  ऐसे व्यक्ति बड़े ही दयालू , धैर्यवान  , स्थिरचित्त और बुद्धिमान होते हैं ।  ऐसे में व्यक्ति बहुत साहसी हो जाता है तथा वह व्यक्ति सभी बड़े से बड़े कामो को करने में पीछे नही हटता और उन सभी कामों को पूरा करने में सफल होता है ।  इस राहु ग्रह के प्रभाव से व्यक्ति का शारीर रोगों से मुक्त होता तथा लम्बी उम्र तक जीवित रहेगा ।  

 ऐसे व्यक्ति बड़े ही वीर होंगे  जो की अपने बड़े से बड़े शत्रुओं को युद्ध भूमि में पराजित कर देंगे तथा उन शत्रुओं का सर्वनाश कर देंगे ।  जिससे व्यक्ति बहुत प्रशिद्ध हो सकता है और उस व्यक्ति को किसी राजा का पद दिया जा सकता है ।  उस व्यक्ति को सरकार का बहुत सहयोग मिलेगा ।  उस व्यक्ति को लाभ तो सबसे ज्यादा तब मिलेगा जब वह अपने धर्म के लोगों से नही वल्कि दुसरे दर्म के लोगों के साथ धंदा करेगा तब उसे अधिक धन प्राप्त होगा ।  नीच जाती के किसी राजा से आपको बहुत धन प्राप्त हो सकता है | जिससे व्यक्ति बहुत अमीर हो सकता है ।  

व्यक्ति के पास धन , गाडी , बंगला , कपड़े  आदि सब कुछ होगा ।  इसलिए व्व्यक्ति भाग्यशाली कहलायगा लोग उससे कहेंगे की आपके पास इतना धन है आपतो बहुत पैसे बाले हो यह सब कहके लोग उस व्यक्ति की बहुत प्रसंशा करेंगे ।  और ऐसे व्यक्ति का जीवन साथ बहुत ज्यादा अच्छा होता है ।  लेकिन इस राहु ग्रह के बुरे प्रभाव के कारण व्यक्ति को कई प्रकार की समस्यां भी हो सकती है ।  जैसे व्यक्ति किसी बुरी संगती में पड़ सकता है  ।  उसकी नौकरी में व्यथा आ सकती है ।  उसके ऊपर कोई साया हो सकता है या तो फिर वह किसी शारीरिक परेशानी में उलझ सकता है ।  उस व्यक्ति को मामा , मौसी या फिर चाचा से बहुत कम सुख प्राप्त होगा ।  ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

7. सातवें भाव में राहु ग्रह का परिणाम 

राहु गोचर 2020

इस भाव में स्थित राहु के ज्यादातर बुरे परिणाम ही बताय गय हैं ।  लेकिन इस भाव में राहु के अच्छे परिणाम भी मिलते हैं ।  जिससे व्यक्ति किसी के वस् में न रह कर  स्वतन्त्र रहना चाहेगा ।  व्यक्ति अपना हर काम बड़ी चतुराई से करेगा ताकि उसे कोई हानि न हो और हाँ ऐसे व्यक्तोयों को घुमने का बहुत ज्यादा सौक होता है क्यूंकि इन्हें घुमने में बहुत आनंद आता है ।  ऐसे व्यक्ति की शादी किसी कारणवस जल्दी हो सकती है या तो फिर बहुत ज्यादा लेट हो सकती है लेकिन हाँ ऐसे व्यक्ति का जीवनसाथी बहुत अच्छा मिलता है ।  जिससे उस व्यक्ति और उसके जीवनसाथी के बीच बहुत प्यार रहेगा । 

व्यक्ति की नौकरी बहुत अच्छी लग जाती है और बहुत अच्छी भी चलती है ।  यदि राहु ग्रह के शुभ प्रभाव व्यक्ति पर बने रहे तो व्यक्ति को व्यवसाय में भी बहुत प्रॉफिट होता है ।  यदि व्यक्ति के उपर राहु के बुरे यानी अशुभ प्रभाव पड़े तो व्यक्ति की हाईट भी कम हो सकती है ।  ऐसे में व्यक्ति कितना भी अच्छा काम करे लेकिन उस व्यक्ति कि बुराई ही होगी ।  लेकिन ऐसे व्यक्तियों को गुस्सा बहुत आता है इसी गुस्से के कारण व्यक्ति किसी से भी झगडा कर बैठता है ।  व्यक्ति कुछ घमंडी भी हो सकता है तथा वह असंतुस्ट रहने वाला हो सकता है ।  लेकिन उस व्यक्ति का स्वभाव कुछ हद तक भयानक हो सकता है ।  

ऐसे व्यक्तियों की संगत बहुत खराब लोगों के साथ होती है ।  बुरे लोगों के साथ रहकर व्यक्ति अच्छे लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी पहुंचाता है ।  ऐसे में व्यक्ति को बहुत सबधानी वर्तनी चाहिये ऐसे में व्यक्ति को लालच और वेकार में घुमने से बचना चाहिये ।  जिससे व्यक्ति के जीवन में सुधार हो सके ।  व्यक्ति को कोशिश करनी चाहिये की वह अपना कुछ समय भगबान की भक्ति में बिताए ।  कभी कभी ऐसा हो सकता है आप अपने जीवनसाथी के साथ बिल्कुल भी न रहे जिससे आपसमे मनमुटाव हो सकता है जिससे घर में कलह फ़ैल सकती है इसलिए व्यक्ति को बुरे कामों से बचना चाहिए और अच्छे कामों में ध्यान देना चाहिये ।  (आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

8.आठवे भाव में राहु ग्रह का परिणाम 

राहु गोचर 2020

इस भाव में राहु ग्रह के होने के कारण यह व्यक्ति को शरीर से बहुत मजबूत बना देता है ।  ऐसी स्थिति में व्यक्ति वहां बहुत कम रह पायगा जहाँ उसका जन्म हुआ है ।  क्यूंकि यह राहु व्यक्ति को सबसे ज्यादा विदेश में धन प्राप्ति करवाता है ।  इसलिए व्यक्ति ज्यादातर अपना समय विदेश में ही गुजारे गा ।  अतः व्यक्ति सरकारी प्रतितिधित्व , पंडित तथा राजा के आदर योग्य होंगा ।  आप लोगों में बहुत श्रेस्ठ माने जायगे तथा बहुत प्रसंशिक व्यक्ति होंगे ।  ऐसे व्यक्ति का 26 से 36 वर्ष की आयु तक भाग्य का उदय हो जायगा ।  जिससे आप श्रेस्ठ कर्मों को करने वाले व्यक्ति कहलायंगे । 

 व्यक्ति को किसी राजा की तरफ से बहुत अधिक मात्रा में धन प्राप्त हो सकता है ।  परन्तु कभी कभी उस व्यक्ति का धन किसी वेकार के काम में बर्वाद हो जायगा ।  लेकिन आपके पास धन तो बहुत होगा परन्तु आपकी संताने बहुत कम होंगी ।  लेकिन आपकी जितनी भी संताने होंगी बे आपकी बुढ़ापे तक बहुत सेवा करेंगी जिससे आपका बुढ़ापा बहुत सुखमय व्यतीत होगा ।  यदि व्यक्ति को गाय पालने का सौक होगा तो उसके पास पशुधन पर्याप्त मात्रा में होगा ।  कभी कभी आपको अपने जीवन में घटी घटनाओ का पुनः अनुमान हो जायगा । 

 परन्तु इस भाव में स्थित राहु व्यक्ति को कई तरह के अशुभ फल भी देता है ।  जिसके कारण व्यक्ति कायर या फिर बहुत ज्यादा आलसी भी हो सकता है ।  आपका स्वभाव तो ऐसा होगा जैसे आप किसी काम को करने में बड़ी जल्दबाजी करते है ।  व्यक्ति उन कार्यों में भी लगाव रख सकता है जो कार्य धार्मिक द्रष्टि से अच्छे न माने जाते हों ।  व्यक्ति को पिता की संपत्ति का भी सुख मिलना मुश्किल पड़ सकता है ।  व्यक्ति को अपने सगे भाइयों से भी दुःख मिल सकता है ।  ऐसे व्यक्ति धन ज्यादा खर्च करने के कारण धन बचा नही पाते जिससे उन्हें आगे बड़ी दिक्कतों से सामना करना पड़ता है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

9. नवम भाव में राहु ग्रह का परिणाम 

horoscope 2019 prediction

अगर इस भाव में अच्छा राहु ग्रह व्यक्ति की कुंडली में है तो यह व्यक्ति को बहुत ज्यादा परिश्रमी तथा भगवान् पर श्रध्दा विश्वाश करने वाला बनाता है ।  तथा ऐसे व्यक्ति बहुत दयालु कृपालु और अपने परिवार के सभी सदस्यों को बहुत प्यार करने वाले और गुणवान होते है ।  ऐसे व्यक्ति तीर्थ स्थानों पर जाने वाले तथा इश्वर में पूर्ण विश्वाश रखने वाले होता है ।  ऐसे व्यक्ति बहुत समझदार तथा सभ्य होते है ।  ऐसे व्यक्तियों को तीर्थ स्थान , विदेशों की यात्राय करना अति प्रिय होती हैं ।  व्यक्ति अधिक गुणवान होने के कारण लोग उसका बहुत सम्मान करते है तथा ऐसे व्यक्ति लोगों के बीच बहुत प्रिय होते हैं । 

 ऐसे व्यक्ति ज्यादातर अपनी चतुराई के कारण लोगो को ऐसी बातें बताते है जिससे लोग भौचक्का रह जाते हैं ।  ऐसे व्यक्ति लोगों के बीच बड़े चमत्कारी माने जाते है । ऐसे व्यक्ति देवी – देवताओं में पूर्ण विश्वाश और भक्ति की भावना रखते है तथा ऐसे व्यक्ति दान बहुत ज्यादा करते है ।  वे व्यक्ति बहुत ज्यादा पुन्य कमाने वाले होते है ।  ऐसे व्यक्ति बड़े उपकारी होते हैं और यदि उनपर कोई उपकार करता है तो वे उसे कभी भूलते नही हैं ।  ऐसे व्यक्ति कभी गलत रास्ता नही चुनते है तथा अपने बड़े बुजुर्गों के बाताय रास्ते पे ही चलते है जिससे उन्हें कभी कोई परेशानी नही होती है तथा वे अपनी मंजिल तक आसानी से पहुँच जाते है ।  

ऐसे व्यक्ति जो भी काम करते हैं वे उस काम को पूरा किये बिना उसे अधुरा नही छोड़ते हैं । ऐसे व्यक्ति बिगड़ी हुई बात को सुधारने वाले तथा आत्मविश्वाश और उन्नति के छेत्र में काम करने वाले व्यक्ति होते हैं  ।  वे हमेशा जगत के कल्याण के लिए प्रयत्नशील होते हैं  ।  यहीं पर स्थित राहु जब व्यक्ति पर अपना बुरा प्रभाव डालता है तब व्यक्ति पाप की ओर बढ़ने लगता है ।  व्यक्ति  धर्म , भगवान् पर कम बिश्वाश करने  की कोशिश करने लगता है ।  लेकिन ऐसी स्थिति में व्यक्ति को स्वयं से बचाव करना चाहिए और ढोंगी बनने से बचना चाहिए ।  तथा साफ़ कपडे पहने तथा अपने मित्रों , भाइयों से अच्छे सम्बन्ध बनके रखने चाहिए । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

10. दसम भाव में राहु ग्रह के परिणाम

राहु गोचर 2020

इस भाव में स्थित राहु व्यक्ति को ताकतवर तथा डर से सामना करने वाला बनाता है ।  ऐसे व्यक्ति बुद्धिमान तथा बड़े ही परोपकारी होते हैं ।  यदि व्यक्ति घमंडी स्वभाव का है तो यह व्यक्ति के अन्दर धीरे धीरे घमंड को ख़त्म कर देता है ।  ऐसे व्यक्तयों का वखान कविताओं में भी होती है ।  कभी कभी ऐसे व्यक्ति बहुत अच्छे लेखक या तो फिर  सम्पादक भी बन जाते हैं ।  इस राहु ग्रह के प्रभाव से व्यक्ति बिलकुल निडर हो जाता है उस व्यक्ति को किसी भी चीज से भय नही रहता है ।  

 ऐसे व्यक्ति यदि अपने जीवन में मेहनत करते है तो सफलता सम्मान और कीर्ति सब ग्रहण कर लेंगे जिससे व्यक्ति गाँव , मोहल्ला , नगर  आदि के अधिकारी भी बन सकता है ।  ऐसी स्थिति में राहु व्यक्ति को मंत्री पद भी दिला सकता है ।  इस भाव में स्थित राहु व्यक्ति को गंगा नहाने का बहुत अच्छा लाभ देगा ।  ऐसे व्यक्तियों के दुश्मन बहुत कम होते हैं और यदि अगर होते भी हैं तो व्यक्ति उनका सर्वनाश कर देता है जिससे उस व्यक्ति से कोई भी शत्रुता नही करता और न ही रखता है ।  ऐसे में व्यक्ति कोई बड़ा यग्य भी कर सकता है । 

ऐसे व्यक्तियों के पुत्र सिर्फ 1 या 2 होते हैं इससे ज्यादा संख्या में पुत्र नही होते है ।  ऐसे व्यक्ति व्यापार में बहुत चतुराई दिखाते हैं ।  तथा ये साल भर कहीं न कहीं यात्राओं पे जाते रहते है ।  इस राहु के प्रभाव से व्यक्ति को कोर्ट कचहरी के कामों में सफलता प्राप्त होती है ।  परन्तु यहाँ स्थित राहु पूर्व अवस्था में समस्या देता है ।  लेकिन यदि व्यक्ति ने पूर्व अवस्था में मिले कष्टों का सामना कर लिया तो उस व्यक्ति को उन्नति मिलेगी ।   लेकिन ऐसे व्यक्ति को आलस से तथा उत्साहहीन से बचना चाहिए ।  ऐसे व्यक्ति को अपने सभी कामों को समय से करना चाहिए और कभी भी घमंड नही करना चाहिए तथा नशा पट्टी से भी बचना चाहिए ।  (आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

11.एकादश भाव में राहु ग्रह के परिणाम 

राहु गोचर 2020

इस भाव में स्थित राहु व्यक्ति के दोषों को कम करने में सहायता करता है तथा ऐसी स्थिति में व्यक्ति को किसी भी प्रकार की शारीरिक परेशानी नही होती है जिससे वह व्यक्ति लम्बी उम्र जीता है ।  ऐसे व्यक्ति कठिन परिश्रम को करने वाले , कामुक और कवि ह्रदय वाले भी हो सकते हैं ।  ऐसे व्यक्ति तरह तरह के भागों को भोगने वाले तथा धनवान हो सकते है ।  ऐसे व्यक्ति अगर चाहे तो वे अपनी सभी इन्द्रियों को अपने वस में कर सकते हैं ।  ऐसे व्यक्ति दूसरों को मोहित करने वाले तथा शास्त्रों के ज्ञाता हो सकते हैं ।  

ऐसे व्यक्ति बड़े चनचल स्वभाव के होते हैं और बहुत विद्वान भी होते हैं तथा विनोदपूर्ण भी हो सकते हैं ।  ऐसे व्यक्ति जिस समाज में रहते है उस समाज में इनका बड़ा सम्मान होता है तथा ऐसे व्यक्ति समाज में सबसे आगे चलते हैं ।  ऐसे व्यक्ति समाज में एक बहुत बड़ा स्तर प्राप्त करते हैं  ।  ऐसे व्यक्ति बड़े ही कीर्तिमान होते हैं ।  ऐसे व्यक्तियों की मित्रता ज्यादातर चतुर स्वभाव के लोगों के साथ होती है ।  ऐसे व्यक्ति मेहनत के कारण अपने जीवन में अनेक प्रकार के लाभ प्राप्त करते हैं ।  ऐसे व्यक्ति धन-धान्य से परिपूर्ण होते हैं ।  ऐसे बच्चों के धन लाभ के कुछ तरीके नीति के विरुद्ध भी हो सकते हैं  ।  ऐसे व्यक्ति विदेशों से भी धन उपार्जन कर सकते हैं ।  ऐसे व्यक्ति  बड़े ही भाग्यशाली होते हैं जिन्हें हर तरह के वाहनों का सुख प्राप्त हो सकता है ।  परंतु ऐसे व्यक्ति कुछ हद तक घमंडी हो सकते हैं ।  व्यक्ति कभी कभी फालतू के विवादों में पड़ जाता है जिससे वे अपनी ऊर्जा का क्षय करते हैं ।  लेकिन ऐसे व्यक्तियों को कभी भी धोखा करके या किसी दूसरे व्यक्ति को ठग करके धन कमाए और यदि व्यक्ति ऐसा करता है तो उससे उसकी संतान को कोई बहुत बड़ी परेशानी हो सकती है । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

12. द्वादश भाव में राहु ग्रह का परिणाम

राहु गोचर 2020

इस भाव में स्थित राहु व्यक्ति को यस्यस्वी और पराक्रमी बनाता है ।  ऐसे व्यक्ति महत्वाकांक्षी वाले और उच्च आदर्शों से पूर्ण रहने वाले व्यक्ति होते हैं  ।  ऐसे व्यक्ति बड़े अच्छे स्वभाव के होते हैं क्योंकि वे कामयाबी सिर्फ अपनी मेहनत से हासिल करना चाहते हैं ।  ऐसे व्यक्ति सभी लोगों से अपना मिलना जुलना बनाए रखते हैं ।  ये बड़े ही परोपकारी व्यक्ति होते हैं । इन व्यक्तियों के अध्यात्मक ज्ञान को ग्रहण करना एक सहज काम होता है ।  इन व्यक्तियों की प्रशंसा वेदों में और वेदांतों में होती है क्योंकि ये व्यक्ति साधु संत महात्मा के स्वभाव के होते हैं ।  ऐसे व्यक्तियों के पास ज्ञान का भण्डार होता है ।  

ऐसे व्यक्तियों को कभी-कभी  सार्वजनिक संस्थाओं के माध्यम से भी लाभ मिल जाता है ।  अगर ऐसे व्यक्ति किसी एक स्थान पर ही टिके रहेंगे तो उन्हें उसी स्थान पर सभी तरह की खुशियां मिलती रहेंगी तथा उनकी सभी इच्छाओं की पूर्ति होती रहेगी | परंतु व्यक्ति को कभी कभी अधिक प्रयास करने के बावजूद भी दोषपूर्ण फल मिलते रहते हैं  ।  और आखिर में स्वयमेव शुभफलों में बदल जाता है ।  किस भाव में स्थित राहु व्यक्ति के समस्त शत्रुओं का विनाश करता है ।  

व्यक्ति के साथ कभी कभी ऐसा भी हो सकता है कि उसके प्रारंभिक स्थिरता ना मिले और आजीविका के लिए व्यक्ति को कहीं दूर जाना पड़ सकता है वह विदेश भी हो सकता है ।  क्योंकि इस स्थिति में राहु व्यक्ति की जन्म भूमि पर उस व्यक्ति को किसी भी तरह का लाभ नहीं देता है ।  परंतु यदि व्यक्ति अपनी जन्मभूमि को छोड़कर किसी दूसरी जगह जाकर कोई व्यवसाय करता है या किसी भी तरह की नौकरी करता है तो वह बहुत अधिक धन  प्राप्ति करेगा ।   उस व्यक्ति का भाग्योदय हो जाएगा ।  लेकिन ऐसे में व्यक्ति को इन बातों से सावधानी बरतनी होगी जैसे  व्यक्ति को छल कपट , पापपूर्ण बिचार , और नीच कर्म करने से बचाव अवश्य करना चाहिये । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहू गोचर 2020 की तारीख और समय क्या होगा

इस वर्ष के अंत होने से पहले ही 23 सितंबर 2020 तक इस राहु ग्रह का गोचर मिथुन राशि से वृषभ राशि में होगा । यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 23 सितंबर 2020 की सुबह 8 : 20 मिनट पर होगा । राहु ग्रह हमेशा टेड़े मेडे रास्ते पर ही चलना स्टार्ट करता है । आज के इस कलयुग मे यह राहु का गोचर  मनुष्य के जीवन मे बहुत बड़ा किरदार निभाता है । तो आइये जानते हैं इस वर्ष 2020 मे राहु की यात्रा हमारी कौन कौन सी राशियों पर अपना असर दिखाती  है ।( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 राशिफल |Rahu Gochar 2020 Rashifal

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का मेष राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस राशि के लिए राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 आपके पराक्रम भाव यानि तीसरे भाव से होने जा रहा है । इस तीसरे भाव मे राहु का गोचर बहुत अच्छा माना जाता है । ऐसे समय मे इस राशि के व्यक्तियों का शौर्य और हिम्मत बनी रहती है । ऐसे मे व्यक्ति यदि कोई भी काम करेगा तो वह अपना हर काम अपने अनुशार ही  करेगा । ऐसे मे व्यक्ति को किसी के साथ की जरूरत नही होती वह व्यक्ति अकेले ही मेहनत करके आगे बढ़ सकता है । और मेष राशि का स्वामी मंगल अग्नि के जैसे ऊपर उठना चाहता है । और ऐसे मे व्यक्ति को इस राहु के गोचर की सहायता अपने व्यवसाय मे बढ़ोतरी , कुछ नया कर दिखने मे सफल हो जाते हैं । और यदि ऐसे समय मे कोई व्यक्ति खेल मे रुचि रखता है तो वह इस समय यदि खेल को बराबर खेलता रहेगा तो वह व्यक्ति किसी बड़े स्तर पर जाकर खेल सकता है । यह राहू ग्रह व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे किसी प्रकार का संदेह पैदा कर सकता है । ऐसे समय मे व्यक्ति को अपने जीवनसाथी के उन सभी रिश्तों को बड़ी ही साबधानी से संभालें ताकि व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे किसी प्रकार का किसी भी प्रकार का भ्रम न पैदा हो ।  व्यक्ति को अपनी आय मे बढ़ोतरी और लाभ के लिए सिर्फ सितंबर महीने तक का समय होगा क्योकि व्यक्ति का शुभ समय सिर्फ सितंबर महीने तक ही है  यदि व्यक्ति सितंबर महीने तक चाहे तो वह अपनी आय मे काफी इजाफा कर सकता है । ऐसे समय मे व्यक्ति किसी नय काम को सुरू करने की इच्छा कर सकता है , जिसमे व्यक्ति को बहुत बड़ा धन लाभ भी होगा । इस राशि के व्यक्ति को सितंबर महीने के बाद बहुत संभल के चलना होगा क्योकि यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 मेष राशि वालों के लिए तीसरे भाव को छोड़कर दूसरे भाव मे चला जायगा । सितंबर के बाद व्यक्ति को अपनी वाणी और अपने खर्चो पर काबू करना होगा ।  

इसका उपाय – श्री हनुमान या फिर राम रक्षा स्तोत्र का प्रतिदिन 9 बार पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का वृषभ राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस राशि के जातको के लिए राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 धन भाव यानि दूसरे भाव से लगन में करेगा । ऐसे समय मे  इस राशि के व्यक्तियों को अपने सभी खर्चे बड़ी ही साबधानी से करने चाहिए । ऐसे समय मे व्यक्ति के कुछ ऐसे खर्चे भी होंगे  जिनका कोई मतलब नही होगा लेकिन ऐसे मे  व्यक्ति को पता भी नही चलेगा की उसका इतना ज्यादा खर्चा हो गया है । ऐसे समय मे इस राशि के व्यक्तियों को अपनी बातों को बहुत सोंच समझकर करना चाहिए , क्यूंकी ऐसे समय मे व्यक्ति के द्वारा कही गई बात किसी को इतनी बुरी लग सकती है जिससे व्यक्ति के  बहुत करीबी रिश्ते टूट सकते हैं । ऐसे समय मे व्यक्ति को अपने कार्यस्थल मे किसी भी प्रकार की गंभीरता को जाहिर न होने दें और यदि व्यक्ति ने ऐसा नही किया तो उसका बहुत ज्यादा नुकसान होगा जोकि आपके मानशिक तनाव का कारण बनेगा । ऐसे मे व्यक्ति की नौकरी मे भी किसी न किसी तरह की टेंशन बनी रहेगी । ऐसे मे व्यक्ति को बड़ी साबधानी बर्तनी होगी क्योकि ये समय व्यक्ति के लिए बहुत बुरा हो सकता है । सितंबर के बाद यह राहु गोचर 2020 व्रषभ राशि मे ही रहेगा । इस दौरान यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 व्यक्ति को किसी तरह की गलत फहमी का शिकार बना सकता है तथा बिना किसी बात के व्यक्ति को दिमागी टेंशन दे सकता है । 

इसका उपाय –  श्री विष्णु लष्मी जी का नित्य पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का मिथुन राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस राशि के लिए राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 आपके लगन भाव यानि पहले भाव से व्यय भाव होने जा रहा हैराहु गोचर 2020 मे होने के कारण इस राशि के व्यक्तियों की अगले साल की शुरूयात दिमागी टेंसन और किसी प्रकार के वहम के साथ हो सकती है । ऐसे समय मे व्यक्ति यदि किसी काम को लेके ज्यादा चिंतित है तो वह उस काम का सही निर्णय नही ले पायगा । ऐसे समय मे व्यक्ति को अपने व्यापार , व्यवसाय मे लेन- देन  के कामों मे बड़ी साबधानी बर्तनी होगी क्यूंकी व्यक्ति यदि साबधानी नही वरतेगा तो उसे धोखा मिलने की संभावना बन रही है । ऐसे समय मे व्यक्ति को इस राहु गोचर 2020 के कालचक्र के कारण अपने आर्थिक मामलों मे बहुत ज्यादा साबधानी के साथ साथ अपने ऊपर भी नियंत्रण करने की आवश्यकता है । व्यक्ति के परिवार मे छोटी छोटी यात्राओं के साथ व्यक्ति किसी मंगल कार्य मे इस वर्ष मे मध्य मे उलझे रहेंगे । अगर व्यक्ति की अपने पिता के साथ नही बन रही जिससे व्यक्ति के पिता बहुत नाराज़ रहते हों तो उन्हे माना ले नही तो पिता की संपत्ति मे आपके भाई बहन लाभ उठा सकते हैं । इस राशि के व्यक्तियों को माता का सहयोग व्यक्ति के जीवन मे हमेशा रहेगा । व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे किसी बात को लेकर व्यक्ति की  जीवनसाथी के साथ आपसी टेंसन बनी रहेगी ।  जिस टेंसन से व्यक्ति को सितंबर महीने के बाद ही छुटकारा मिलेगा । सितंबर मे राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 मिथुन राशि से व्रषभ राशि मे होगा । यह गोचर वरहवें भाव मे किसी विदेश यात्रा के लिए बहुत अच्छा रहेगा परंतु ज्यादा धन खर्च के लिए अच्छी नही रहेगा । 

इसका उपाय –  श्री अष्ट लष्मी जी का प्रतिदिन पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का कर्क राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस राशि के लिए राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 आपके बारहवें भाव से एकादश भाव मे होने के कारण व्यक्ति को अपने खर्चों की वजह से मानसिक तनाव बना रह सकता है । यह राहु इस राशि के उन व्यक्तियों के लिए बहुत अच्छा है जो लोग विदेश जाना चाहते है और वहीं रहना चाहते है यह राहु उनकी मनोकामना पूर्ण करता है । इस वर्ष 2020 मे व्यक्ति का रुका हुआ पैसा या फिर व्यक्ति ने किसी को उधार दिया है वो पैसा  मिल सकता है । व्यक्ति ऐसे मे किसी धार्मिक स्थल पर अपने पूरे परिवार के साथ जा सकता है । जिस कारण व्यक्ति अपने परिवार के साथ अपना कीमती समय विता पायगा । ऐसे मे व्यक्ति के जीवनसाथी को कोई बहुत बड़ी नई उपलब्धि मिल सकती है । जिसकारण व्यक्ति के परिवार मे खुशी का वातावरण बनेगा । व्यक्ति का पनि संतान से किसी कारण बिवाद हो सकता है । यह राहु इस राशि मे सितंबर महीने मे एकादश भाव मे आ जायगा । इसलिए सितंबर का समय व्यक्ति की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए बहुत अच्छा रहेगा । इस राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 के शुभ प्रभाव से व्यक्ति की समाज मे एक नई पहचान बनेगी तथा व्यक्ति के धन से जुड़े सभी सपने पूरे होंगे । व्यक्ति यदि किसी कंपनी मे काम कर रहा है तो उसे वहाँ नय प्रोजेक्ट पर काम मिलेगा जिस काम को पूरी ईमानदारी के साथ करना है , नही तो व्यक्ति का नुकसान हो सकता है । 

इसका उपाय – श्री कुबेर जी का प्रतिदिन पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का सिंह राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस राशि के लिए राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 आपके एकादश भाव यानि ग्यारवे भाव से दसम भाव में होने जा रहा है। व्यक्ति के लिए यह समय अपनी आर्थिक स्थिति मे सुधार  और लाभ लेने के लिए बना हुआ है । ऐसे समय मे कामाय हुए पैसों को सही जगह लगाय और यदि व्यक्ति ने इस पैसे को सही जगह नही लगाया तो जिस प्रकार यह पैसा व्यक्ति के पास आया है ठीक उसी प्रकार खर्च हो जायगा । इस समय व्यक्ति की पहचान और भी ज्यादा बढ़ेगी क्यूंकी उस व्यक्ति को अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए एक नया मौका मिलेगा जिससे वह अपने व्यवसाय की और अपनी पहचान को और भी ज्यादा बढ़ा सकेगा । ऐसे समय मे  व्यक्ति अगर विदेशी कंपनियों से संपर्क रखता है तो उसे उन कंपनियों से नय प्रोजेक्ट पर काम मिलेगा जिससे वह अपनी आय मे बढ़ोत्तरी कर सकेगा । इस समय मे व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे अपने जीवनसाथी से किसी बात को लेकर तनाव बना रहेगा , और इस तनाव का कारण यह भी हो सकता है व्यक्ति अपने काम के चक्कर मे अपने जीवनसाथी को समय न दे पाता हो , इस कारण यह तनाव पैदा हुआ हो ।  इस राशि के व्यक्ति के जीवन मे अगस्त महीने मे एक ऐसा साथी जो की दोस्त के रूप मे आयगा जिससे व्यक्ति को उससे प्यार हो जायगा । परंतु सितंबर महीने से यही राहु मिथुन राशि से  व्रषभ राशि यानि इस सिंह राशि से दसम भाव मे गोचर करेगा । ऐसे समय मे व्यक्ति अपने काम को लेकर थोड़ा संदेह मे पड़ सकता है । 

इसका उपाय – श्री लक्ष्मी जी की आरती प्रतिदिन करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का कन्या राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

कन्या राशि के जातको के लिए यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 मे दसम भाव से नवम भाव में होगा । यह समय व्यक्ति को किसी भी काम को करने के लिए शुभ नही है  । ऐसे मे व्यक्ति को अपने काम करने के स्थान पर संदेह पैदा हो सकता है तथा अपने ही किसी कामकर्ता के साथ राय न मिलने के कारण अनबन भी हो सकती है ।  इस समय व्यक्ति अपनी आर्थिक स्थिति को लेकर चिंतित रहेगा । ऐसे समय मे व्यक्ति किसी भी काम मे पैसा न लगाय । इस समय मे व्यक्ति के ऊपर कर्ज की स्थिति बनी हुई है इस कारण व्यक्ति कहीं भी पैसा न फसाय । व्यक्ति किसी भी काम को करने के लिए जल्दबाज़ी न करे । व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे उसे उसके जीवनसाथी का पूरा सहयोग मिलेगा तथा वह आपका आर्थिक रूप से सहयोग करने की भी कोशिश करेगा  । परंतु ऐसे समय मे व्यक्ति को अपनी संतान की तरफ से किसी प्रकार की दिमागी टेंसन पैदा हो सकती है , जिसकी वजह यह भी हो सकती है की आपकी संतान के साथ आपके विचार न मिलते हों जिससे आपके जीवन मे तनाव और भी ज्यादा बढ़ सकता हैं । यह राहु सितंबर महीने मे राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 मिथुन राशि से व्रषभ राशि मे होगा । जिस कारण ऐसे समय मे व्यक्ति का लगाव परमात्मा से सम्बंध बनाने मे लगेगा । व्यक्ति को धर्म के स्थान पर जाने का भी अवसर मिलेगा । लेकिन व्यक्ति को ऐसे समय मे अपने पिता का बहुत ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत है तथा उनसे किसी प्रकार का मतभेद न करें । जिससे उनकी सेहत पर कोई फर्क पड़े । 

 इसका उपाय – श्री शनि देव जी की आरती प्रतिदिन करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का तुला राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस वर्ष राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 के माध्यम से राहु का गोचर इस राशि के नवम भाव से अष्टम भाव मे अपना प्रभाव दिखा रहा है । इस राहु का नवम भाव यानि भाग्य भाव मे होने से यह राहु का गोचर व्यक्ति को ऐसा प्रतित करायगा  की व्यक्ति को लगेगा की उसके सभी कार्य सम्पन्न हो रहे हैं । परंतु यह किसी कारणवस व्यक्ति के काम मे रुकाबट पैदा करेगा जिससे व्यक्ति का कार्य पूरा नही हो पायगा । व्यक्ति का अपने पिता के साथ किसी बात को लेकर मतभेद हो सकता है । ऐसे मे व्यक्ति अपने सभी कामों की स्टार्टिंग बड़े ही जोश और उत्साह के साथ करेगा परंतु वह किसी वहम मे पड़कर मानशिक परेशानी का अनुभव करेगा । व्यक्ति को संतान की तरफ से भी किसी प्रकार की टेंसन मिल सकती है जिससे व्यक्ति के रिश्तों मे खटापन आ सकता है जिस कारण आपस मे दूरियाँ बनी रहेंगी । ऐसे समय मे व्यक्ति अपने किसी भी व्यवसाय मे धन लगाने से पहले किसी अनुभवी सीनियर से सलाह जरूर ले ले ताकि व्यक्ति को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े । ऐसे समय मे व्यक्ति को धार्मिक स्थानो पर जाने का अवसर मिलेगा , लेकिन व्यक्ति किसी भी तरह का दिखावा न करे । यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 सितंबर महीने मे मिथुन राशि से व्रषभ राशि मे रहेगा । यह राहु गोचर इस राशि के आठवे भाव मे होने के कारण व्यक्ति के विदेश जाने के अवसर भी बन रहे हैं । और ऐसे मे व्यक्ति किसी चीज की खोज बहुत ज्यादा रुचि लेगा । 

इसका उपाय – श्री गणपति जी की आरती प्रतिदिन करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का वृश्चिक राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस वर्ष 2020 मे राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 इस राशि के अष्टम भाव से सप्तम भाव में होगा। इससे पहले व्यक्ति जिस टॉपिक पर अपनी रिसर्च कर रहा था वह अब इस समय मे उस कार्य मे सफलता प्राप्त करेगा , तथा व्यक्ति लोगों को कुछ नया दिखने के लिए बहुत अधिक प्रोषित होगा । यदि व्यक्ति किसी से प्यार करता है तो ऐसे समय मे उसे अपनी सभी बाते बताय अपने प्रेमी से किसी भी प्रकार की बात न छुपाय और यदि व्यक्ति किसी बात को छुपाता है , और वह बात बाहर से उसे पता चली तो आपके रिश्तों मे भी दरार आ सकती है । ऐसे समय मे व्यक्ति अपने माता पिता के साथ किसी धार्मिक स्थल पर जा सकता है । ऐसे समय मे व्यक्ति के व्यवसाय मे काफी बदलाव आयगा तथा नय प्रोजेक्ट पर काम करने को भी मिलेगा और उस प्रोजेक्ट के काम मे व्यक्ति सफलता भी हासिल करेगा । ऐसे समय मे व्यक्ति अगर किसी कंपनी मे काम बहुत मेहनत से करता है तो उस कंपनी का मालिक व्यक्ति का प्रमोशन भी कर सकता है । ऐसे समय मे यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 सितंबर महीने से सप्तम भाव मे होने के कारण व्यक्ति का वैवाहिक जीवन काफी तनाव पूर्ण हो सकता है । व्यक्ति की जीवनसाथी के साथ आपसी दूरियाँ भी बढ़ जायंगी । 

 इसके उपाय -श्री महादेव जी की आरती प्रतिदिन करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का धनु राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस वर्ष राहु गोचर 2020 की शुरुआत में राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 व्यक्ति की इस राशि से सप्तम भाव से छठे भाव में रहेगा । व्यक्ति ऐसे समय मे अपने व्यापार के लेन देन को बड़ी ही साबधानी पूर्वक करे । व्यक्ति अपने किसी भी साझेदार पर इतना विश्वाश न करें की अपना सभी काम उसे ही सौप दे अन्यथा वह आपको बहुत बड़ी हानि पहुंचा सकता है । ऐसे समय मे व्यक्ति के खर्चे बहुत ज्यादा हो जायंगे जिससे व्यक्ति का मानशिक तनाव बहुत ज्यादा बढ़ जायगा । व्यक्ति अपने दोस्तों के साथ रहकर अपना कीमती समय वर्बाद न करें । व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे राहु के प्रभाव से जीवनसाथी के साथ किसी प्रकार का संदेह हो सकता हैं अगर कोई बात हो जाती है तो उसे आपस मे सुलझा ले ज्यादा बात बढ्ने पर आपसी रिश्तों मे दरार आ सकती है , तथा परिवार मे तनाव आ सकता है । व्यक्ति जिससे बहुत ज्यादा प्यार करता है तो वह अपने व्यवसाय मे व्यस्त होते हुए भी समय देने की कोशिश करें और यदि व्यक्ति ने समय नहीं दे पाया तो यही कारण आपको आपके प्रेमी से दूर कर सकता है । यही राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 सितंबर महीने से धनु राशि से छठे भाव में  व्रषभ राशि मे होगा । यह राहु इस छठे भाव मे बहुत अच्छे फल देता है । यह व्यक्ति के शत्रुओं को भी पराजित करने की शक्ति देता है , और यह राहु व्यक्ति के किसी केश को जिताने मे भी साहयता करता है । 

इसका उपाय – श्री गुरु गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का मकर राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 वर्ष की शुरुआत में मकर राशि वालों के लिए राहु का गोचर छठे भाव से पंचम भाव में निवास करेगा । ऐसे समय मे व्यक्ति अगर कर्जे मे डूबा है तो उसे कर्जे से मुक्त होने मे सहायता मिलेगी । यह राहु व्यक्ति को प्रतिद्वंद्विता मे भी सफलता भी दिलाता है । अगर व्यक्ति किसी केश मे जेल मे है या तो फिर वह किसी विवाद मे फशा है तो यह राहु उस व्यक्ति को वहाँ से निकलने मे मदद करेगा । अगर व्यक्ति का सपना है की वह विदेश जाकर घूमे तो इसी राहु गोचर के माध्यम से उस व्यक्ति का यह सपना पूरा होगा । व्यक्ति इस वर्ष विदेश जा सकता है इसलिए वह अपनी पूरी तैयारी रखे । लेकिन यह यह राहु व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे दिक्कते ला सकता है । व्यक्ति का अपने जीवनसाथी के साथ किसी बात को लेकर आपसी मतभेद हो सकता है । व्यक्ति जिस जगह काम कर रहा होगा वहाँ उसके साथ काम करने वाले लोगों के साथ किसी बात को लेकर आपस मे तनाव बना रहेगा । ऐसे मे व्यक्ति किसी को अपने मन की बात न बताय और न ही किसी को इतना करीबी बनाय जिससे वो आपका गलत फाइदा उठा सके । ऐसे मे व्यक्ति कोई भी काम करेगा तो वह बड़े ही उत्साह और जोश के साथ करेगा परंतु ऐसे समय मे व्यक्ति के व्यवसाय मे उतार चड़ाव बना रहेगा । और ऐसे समय मे व्यक्ति की अपनी संतान के साथ किसी बात को लेकर आपस मे मतभेद हो सकते हैं । यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 सितंबर महीने मे पंचम भाव मे होने के कारण व्यक्ति की सोंच मे संदेह पैदा करेगा तथा व्यक्ति ऐसे मे निर्णय लेने मे खुद को इतना कमजोर महसूस करेगा की वह अपने खुद के निर्णय सही नही ले पायगा ।

इसका उपाय – श्री शनि गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का कुम्भ राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस वर्ष 2020 के माध्यम से यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 कुम्भ राशि से पंचम भाव से चतुर्थ भाव में होने रहा है । इस राहु के पंचम भाव मे आने से व्यक्ति को सिक्षा के छेत्र मे बहुत सी दिक्कते उत्पन्न हो सकती हैं । ऐसे समय मे व्यक्ति किसी भी चीज को बदलने या कुछ नया करने की न सोंचे । ऐसे समय मे व्यक्ति अपनी संतान की शिक्षा पे और उसकी सेहत पर विशेष रूप से ध्यान दे क्यूंकी ऐसे समय मे उन्हे परेशानी हो सकती है । इस वर्ष के गोचर के माध्यम से व्यक्ति को कई नकारात्मक विचारों से मुक़ाबला करना पड़ सकता है । इसके कारण मानशिक तनाव बहुत ज्यादा हो सकता हैं । इस वर्ष व्यक्ति के सबसे खाश दोस्त से अनबन हो सकती है तथा ऐसे मे रूपय पैसे को लेकर भी कहा सुनी हो सकती है । व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे किसी तीसरे व्यक्ति के कारण आपसी तनाव हो सकता है और एक दूसरे पर संदेह बहुत ज्यादा होने लगेगा । अगर व्यक्ति को इस समय किसी प्रोजेक्ट पर काम मिलता है तो व्यक्ति उस काम को बड़े ही उत्साह के साथ करेगा जिससे उसमे उसको सफलता भी प्राप्त होगी । व्यक्ति का कार्य के छेत्र मे आत्मविश्वाश और भी ज्यादा बढ़ जायगा । इस समय मे व्यक्ति का वेतन बढ्ने की समभाबना है जिससे उसको आर्थिक स्थिति सुधारने मे काफी ज्यादा मदद मिलेगी । और जब सितंबर महीने के बाद यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 व्यक्ति के चतुर्थ भाव मे आयगा तब व्यक्ति के पारिवारिक जीवन मे थोड़ा असंतोष उत्पन्न हों सकता है । और व्यक्ति को इस असंतोष के कारण परिवार से दूर भी रहना पड़ सकता है । ऐसे  मे व्यक्ति ज्यादा से ज्यादा समय अपने परिवार को दे जिससे उन सबके बीच प्यार और ज्यादा बढ़ जाय । जिससे आप अपने परिवार का सुख प्राप्त कर पायंगे । 

इसका उपाय – श्री रूद्र मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020 का मीन राशि के लिए 2020 से 2022 तक का राशिफल-Rashifal

इस वर्ष 2020 के माध्यम से मीन राशि में राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 चतुर्थ भाव से तीसरे भाव में बना हुआ है । इस भाव मे राहु गोचर के होने के कारण व्यक्ति का अपनी माता के साथ किसी बात को लेकर मतभेद बना रहेगा जिससे व्यक्ति को बहुत ज्यादा मानशिक तनाव हो सकता है । ऐसे मे व्यक्ति के काम से जुड़ी छोटी – छोटी यात्राओं का सयोंग बना हुआ है ।व्यक्ति अपने जीवन मे कुछ ऐसे खर्चे भी करेगा जिनका वह अनुमान नही लगा सकता । व्यक्ति के वैवाहिक जीवन मे आर्थिक स्थिति बुरी होने के कारण व्यक्ति और उसके जीवन साथी के बीच मतभेद हो सकता है ।  यदि व्यक्ति अपने व्यवसाय मे कोई फैसला लेता है तो वह उसे पहले सोंच समझ ले फिर उसके बाद ही फैसला ले । ऐसे समय मे व्यक्ति कोई भी काम जल्दबाज़ी मे न करे और न जल्दबाज़ी मे कहीं अपना धन लगाय । यह समय व्यक्ति के लिए और उसके प्रेमी के लिए बहुत ही रोमांटिक रहेगा और इस रोमांश भरे समय मे व्यक्ति के रिश्ते और भी ज्यादा मजबूत होंगे । सितंबर महीने से यही राहु मीन राशि के तीसरे भाव मे गोचर करेगा । राहु का यह गोचर व्यक्ति की सारी पतरेशानियों का निवारण करेगा और व्यक्ति का आत्मबल तथा उत्साह बढायगा । ऐसे समय मे व्यक्ति अगर कोई नया काम करता है तो उसे उस काम मे सफलता प्राप्त होगी । यही था राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 का मीन राशि मे परिणाम । 

इसका उपाय – श्री गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें । ( आप पढ़ रहे हैं राहु गोचर 2020 | Rahu Gochar 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022)

हम यही उम्मीद करते हैं की यह राहु गोचर 2020|राहु गोचर 2021-2022 | Rahu Gochar 2021-2022 मे व्यक्ति के जीवन को खुशहाली से भर दे । आप खूब तरक्की करे और आप के जीवन मे कभी कोई दुख न आय । हमारी इस बेवसाइट पर आने के लिए आपका दिल से बहुत बहुत धन्यवाद करते हैं !