पन्ना रत्न के फायदे: नौकरी और बिजनेस सफलता का सरल उपाय

Table of Contents show

पन्ना रत्न के फायदे। पन्ना रत्न के लाभ। Benefits of Panna Gemstone

पन्ना रत्न यानि एमराल्ड कई सांस्कृतिक परंपराओं और ज्योतिषीय मान्यताओं में एक शक्तिशाली और शुभ रत्न माना जाता है। इसका उपयोग विभिन्न उपचारों और शुभ फलों के लिए किया जाता है। वहीं पन्ना रत्न के जातक के जीवन में इसे धारण करने से क्या-क्या लाभ होते हैं यह नीचे बिन्दुओं में बताया गया है।

मानसिक स्थिरता

पन्ना धारण करने से मानसिक स्थिरता और ध्यान देने की क्षमता बढ़ती है। यह जातक को मानसिक तनाव से मुक्त रखता है।

व्यापार में वृद्धि

पन्ना रत्न पहनने से व्यापारियों और व्यावसायिकों को विशेष लाभ होता है, क्योंकि यह व्यापार में वृद्धि और धन की प्राप्ति में सहायता कर सकता है। यह जातक को होने वाली धन हानि से बचाता है।

स्वास्थ्य लाभ

पन्ना को पहनने से जातक के नेत्र स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है और पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है। पन्ना को हृदय से संबंधित विभिन्न रोगों, जैसे हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल से राहत प्रदान करने के लिए भी माना जाता है। यह जातक को अन्य शारीरिक परेशानियों से बचाने में भी मदद करता है।

शिक्षा में सहायता

पन्ना धारण विद्यार्थियों के लिए विशेष रूप से उपयोगी माना जाता है क्योंकि इसे यादाश्त और ध्यान केंद्रित करने में सहायता करने का गुण माना जाता है।

विवाहित जीवन में सुख

पन्ना पहनना प्रेम और सम्पत्ति का प्रतीक माना जाता है। यह विवाहित जीवन में खुशहाली और संतोष लाने में सहायक हो सकता है। यह वैवाहिक सम्बन्धों को मजबूत बनाने में मददगार साबित होता है।

कर्मचारियों की भरोसा और निष्ठा

यदि व्यापारी पन्ना धारण करते हैं तो उनके कर्मचारी उनके प्रति अधिक निष्ठा और वफादारी दिखाते हैं। जिससे व्यापार में लाभ मिलता है।

स्वप्नदोष और नींद सम्बंधी समस्याओं से छुटकारा

पन्ना को धारण करने से स्वप्नदोष और नींद से संबंधित अन्य समस्याओं से राहत मिलती है। जिसके प्रभाव से जातक कार्यों में ध्यान लगा पाता है।

शारीरिक और सामाजिक प्रतिष्ठा

इसे पहनने से जातक का शारीरिक रंग रूप निखरता है ओर आकर्षण बढ़ने लगता है। इसके प्रभाव से जातक का गौरव बढ़ेगा और समाज में मान सम्मान भी मिलेगा।

धन लाभ

पन्ना रत्न के प्रभाव से जातक को धन संचय करने में मदद मिलती है और खर्चों में कमी आती है। इसके अलावा, पन्ना जातक को अच्छे निवेश और धन की प्राप्ति के अवसर भी प्रदान कर सकता है।

नौकरी और कारोबार

पन्ना के प्रभाव से जातक को अपने पिता के कार्यों में मालिकाना मिलता है और कारोबार में बढ़ोत्तरी। नौकरी के (Panna stone ke fayde) क्षेत्र से जुड़े जातकों को प्रमोशन के लिए लाभकारी हो सकता है।


पन्ना रत्न के नुकसान। पन्ना से हानि। Panna ke Nuksaan

इस संसार में पाए जाने वाले सभी रत्नों के जितने फायदे होते है उससे कई गुना ज्यादा नुकसान भी होते है। ऐसे ही पन्ना (एमराल्ड) रत्न अगर सही तरीके से नहीं पहना जाए तो जातक को इसके नकारात्मक प्रभावों का सामना करना पड़ता है। इसी प्रकार पन्ना रत्न के नुकसान निम्नलिखित हो सकते हैं।

  • चिंता और तनाव: पन्ना के नकारात्मक प्रभाव से जातक चिंतित और तनावग्रस्त हो सकता है। इसके प्रभाव से मानसिक तनाव अधिक बढ़ सकता है।
  • शारीरिक समस्याएँ: पन्ना रत्न के प्रभाव से जातक को तमाम सारी शारीरिक परेशानियों का शिकार होना पड़ सकता है। इसके दुष्प्रभाव से जातक को बड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है।
  • अनिद्रा: पन्ना रत्न के दुष्प्रभाव से जातक को अनिद्रा, आलस्य और कार्यों में देरी आदि जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
  • नकारात्मक ऊर्जा: पन्ना अपने गलत प्रभाव से जातक के आस-पास की ऊर्जा को नकारात्मक बना सकता है। जिससे जातक के साथ बिना गलती झगड़े हो सकते हैं।
  • भावनात्मक समस्याएँ: पन्ना रत्न को गलत विधि से पहने जाने पर जातक कि भावनात्मक स्थिरता प्रभावित हो सकती है।
  • संबंधों में तनाव: पन्ना अपने दुष्प्रभाव से जातक के पारिवारिक, वैवाहिक और सामाजिक संबंधो में तनाव उत्पन्न कर सकता है।
  • धन सम्बंधी समस्याएँ: यदि पन्ना गलत तरीके से धारण किया जाए तो जातक को आर्थिक तंगी, धन हानि सम्बंधी समस्याएँ भी हो सकती हैं।
  • काम में बाधा: पन्ना का अनुचित उपयोग जातक के कार्यों में बाधा/रुकावट उत्पन्न कर सकता है जिससे कार्यक्षेत्र में गलत प्रभाव होगा।
  • नकारात्मक प्रभाव: यदि पन्ना को अनुपयुक्त तरीके से धारण किया जाए तो यह अपनी नकारात्मक ऊर्जा से जातक के कार्यों अथवा व्यवहारों को अस्त-व्यस्त कर सकता है।

पन्ना रत्न और इसकी विशेषताएँ। Panna Ratna  

पन्ना रत्न। panna ratna ke fayde

पन्ना रत्न जिसे अंग्रेजी में एमराल्ड कहते हैं, एक प्राकृतिक रत्न है जो बेरिल मिनरल के एक विशेष रूप का होता है। यह हरा रंग का होता है, जो क्रोमियम और वनाडियम की उपस्थिति से आता है। पन्ने की महत्ता उनके रंग, पारदर्शिता और आकार के आधार पर निर्धारित की जाती है।

पन्ना को विशेष रूप से दिलचस्प बनाने वाला यह है कि वे क्रिस्टल संरचना में अनेकांतवादी होते हैं, जिसका मतलब है कि वे विभिन्न कोणों पर अलग-अलग रंग दिखाते हैं। इसके अतिरिक्त, वे अक्सर ‘जर्डिन’ नामक शामिल होते हैं, जो पन्ने के भीतर की विशिष्ट पैटर्न होती हैं। ये पैटर्न रत्न को और भी अद्वितीय बनाते हैं।

पन्ना (Panna Ratna) भारत, कोलंबिया, जिम्बाब्वे, रूस, और अन्य देशों में पाए जाते हैं। पन्ने की खानें विश्वभर में हैं और यह एक महंगा और सम्मानित रत्न है। पन्ने का उपयोग आभूषण, धार्मिक और राजनीतिक वस्त्रों, और अन्य साज-सज्जा के लिए किया जाता है।



इस लेख में आपको इन सबके जवाब मिल जाएंगे ।

  • पन्ना रत्न के फायदे
  • पन्ना रत्न के नुकसान
  • पन्ना की कीमत क्या है
  • पन्ना किस उंगली में पहनना चाहिए
  • पन्ना की कीमत कितनी है
  • पन्ना कितने रत्ती का पहनना चाहिए
  • पन्ना किस धातु में पहनना चाहिए
  • पन्ना किसे पहनना चाहिए
  • पन्ना पहनने की विधि

अन्य सभी रत्नों के बारे में विस्तृत जानकारी पाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।


पन्ना रत्न की तकनीकी विज्ञान। Panna stone 

पन्ना रत्न का रंग हरा होता है तथा इसे हम ह्ल्के हरे, चटक हरे रंग का भी पाते है। इस रत्न की कठोरता हम मोह्स स्केल से मापते है जिससे हमें इस रत्न की कठोरता 7.5 से 8.0 तक की मिलती है। इस रत्न की इसी कठोरता की बजह से पन्ना आभूषण सम्बन्धी सभी कार्यों में बहुत अच्छा माना जाता है। लेकिन इस पन्ना की अधिक कठोरता की वजह से इसकी जो स्थिरता होती है उसमे बहुत समस्यां उत्पन्न होती है।

हमें प्रकृति में ऐसे रत्न बहुत कम मिलते है जिनकी सतह पर कोई टूट फूट या दरार न हो। इस रत्न में जब दरारे होती हैं तो यह रत्न बहुत कमजोर हो जाता है। जिससे इस पन्ना के टूटने का बहुत बड़ा डर रहता है। इस रत्न में जो दरारें हो जाती है उन्हें भरने तथा इसकी मजबूती को बढाने के लिए इसमें कई प्रकार की सामग्री मिश्रित की जाती है। इन सामग्रियों के मिलाने के बाद इस पन्ना की सुन्दरता तो बढ़ जाती है परन्तु इसकी स्थिरता में कोई सुधार नही होता है। 



पन्ना रत्न धारण करने की विधि। पन्ना धारण विधि। Panna pahnne ki vidhi

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह पन्ना धारण विधि सामान्य है जिसे आप व्यक्तिगत जीवन से जोड़ने से पहले अपने किसी ज्योतिष विशेषज्ञ से सलाह जरूर करनी चाहिए। पन्ना (इमराल्ड) रत्न धारण करने की विधि निम्नलिखित हैं।

  1. दिन का चयन: पन्ना धारण करने का सबसे अच्छा दिन बुधवार माना जाता है। इस दिन को चुनकर आपको इस रत्न के सकारात्मक प्रभावों को अधिकतम करने में मदद मिल सकती है।
  2. शुद्धीकरण: धारण करने से पहले रत्न को शुद्ध करने के लिए गाय के दूध या गंगाजल में डुबोया जाना चाहिए।
  3. धारण: पन्ना रत्न को शुद्धीकरण के बाद सुने या चांदी के आभूषण में स्थापित करना चाहिए। आमतौर पर, इसे अंगूठी में पहनने की सलाह दी जाती है, और विशेष रूप से यह सलाह दी जाती है कि यह अंगूठी दाहिने हाथ की तर्जनी या मध्यमा ऊँगली में पहनी जाए।
  4. मंत्र पठन: पन्ना धारण करते समय, आपको बुध ग्रह के मंत्र का पठन करना चाहिए, जो है “ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः“. मंत्र को 108 बार दोहराना चाहिए।
  5. धारण के बाद: रत्न धारण करने के बाद, आपको संभव हो सके उत्तम से उत्तम जीवन शैली और आचरण अपनाना चाहिए। इसके लिए आपको एक अच्छी आहार योजना अपनानी चाहिए, नियमित व्यायाम करना चाहिए, और मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना चाहिए।

पन्ना धारण करने से पहले, आपको अपने ज्योतिषी या ज्योतिष विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए, जो आपको आपके जन्म कुंडली और ग्रह स्थिति के आधार पर उपयुक्त सलाह दे सकते हैं।


पन्ना रत्न कितने रत्ती का पहनना चाहिए

पन्ना रत्न (एमराल्ड) कितने रत्ती का पहनना चाहिए यह व्यक्ति की कुंडली, उनके ज्योतिषीय स्थिति और उनकी व्यक्तिगत परिस्थितियों पर निर्भर करता है। किसी भी रत्न को पहनने से पहले, व्यक्ति को एक योग्य ज्योतिषी के पास सलाह लेनी चाहिए जो उनकी जन्म कुंडली का विश्लेषण कर सके। पन्ना रत्न कम से कम 3 रत्ती और ज्यादा से ज्यादा 7 रत्ती का धारण कर सकते हैं, जो आपकी व्यक्तिगत कुंडली के अनुसार निर्धारित किया जाएगा।

नोट- आज कल मार्केट में ऐसा गलत चलन चलाया गया है जैसे- पन्ने का वजन व्यक्ति के शरीर के वजन के आधार पर निर्धारित किया जाता है। कुछ ज्योतिषियों के अनुसार, प्रत्येक 12 किलो वजन के लिए 1 रत्ती का पन्ना पहना जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, अगर व्यक्ति का वजन 60 किलो है, तो उन्हें 5 रत्ती का पन्ना पहनना चाहिए। यह बिलकुल गलत है कृपया ऐसे लोगों के चक्कर में न पड़ें।


12 राशियों के लिए पन्ना रत्न । Emerald on 12 Signs

ज्योतिष शास्त्र में रत्नों का महत्वपूर्ण स्थान होता है। ये रत्न कुंडली में स्थित ग्रहों की दशा और प्रभाव को संतुलित करने में सहायता करते हैं। पन्ना (इमराल्ड) बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है। बुध ग्रह बुद्धि, वाणी, व्यवसाय, वाणिज्य और संचार से सम्बंधित होता है। अब चलिए देखते हैं कि विभिन्न राशियों के लिए पन्ना कैसा रहेगा।  


मेष राशिफल 2024वृषभ राशिफल 2024मिथुन राशिफल 2024कर्क राशिफल 2024
सिंह राशिफल 2024कन्या राशिफल 2024तुला राशिफल 2024वृश्चिक राशिफल 2024
धनु राशिफल 2024मकर राशिफल 2024कुम्भ राशिफल 2024मीन राशिफल 2024

मेष राशि  
पन्ना रत्न के फायदे

मेष राशि (Aries) के जातक के लिए पन्ना (Emerald) रत्न का विचार किया जा सकता है, लेकिन यह सम्पूर्ण ज्योतिषीय विश्लेषण पर आधारित होना चाहिए, क्योंकि रत्न का चयन कई तत्वों पर निर्भर करता है, जैसे कि जातक की कुंडली, ग्रहों की स्थिति, दशा, महादशा आदि।

पन्ना रत्न बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, जो संचार, व्यापार, वाणी, और बुद्धिमत्ता से सम्बंधित है। इसलिए, अगर मेष राशि के जातक की कुंडली में बुध की स्थिति अनुकूल नहीं है या बुध दशा/महादशा चल रही हो तो पन्ना रत्न धारण करने का सुझाव दिया जा सकता है।


वृषभ राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

वृषभ राशि के जातकों के लिए, पन्ना अक्सर सलाह दिया जाता है क्योंकि यह बुध ग्रह को प्रशासित करता है जो वृषभ राशि के द्वितीय और पांचवें भाव (धन और संतान क्षेत्र) का स्वामी होता है। इसका मतलब है कि पन्ना रत्न धन संबंधी मुद्दों, संचार, व्यवसाय और बाल संबंधी मुद्दों में मदद कर सकता है।

हालांकि, किसी भी रत्न को धारण करने से पहले, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण होता है कि यह व्यक्ति की कुंडली के साथ अनुकूल है। यह ज्योतिषी द्वारा की गई व्यक्तिगत परामर्श पर निर्भर करता है।


मिथुन राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

मिथुन राशि का स्वामी ग्रह बुध है। पन्ना रत्न भी बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए मिथुन राशि के जातकों के लिए यह लाभकारी हो सकता है। पन्ना मनुष्य की बुद्धि, शिक्षा, व्यापार, और वित्तीय स्थिति को सुधारने में मदद करता है।

हालांकि, ध्यान दें कि किसी भी रत्न को धारण करने से पहले ज्योतिषी की सलाह जरूर लें। क्योंकि विभिन्न जातकों के लिए उनकी कुंडली और ग्रहों की स्थिति के आधार पर विभिन्न प्रभाव हो सकते हैं। 


कर्क राशि
पन्ना रत्न के फायदे

पन्ना (एमराल्ड) बुध ग्रह का रत्न होता है, जो कि मिथुन और कन्या राशि से संबंधित है। इसलिए, यह कर्क राशि के जातकों के लिए सामान्यतया सर्वोत्तम विकल्प नहीं होता है।

फिर भी, यदि कर्क राशि के जातक का बुध ग्रह कुंडली में महत्वपूर्ण स्थान रखता है, तो पन्ना उपयोगी हो सकता है। इसके अलावा, व्यक्तिगत कुंडली और ग्रहों की स्थिति का विश्लेषण बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है, इसलिए यह सलाह दी जाती है कि रत्न धारण करने से पहले ज्योतिषी की सलाह ली जाए। 


सिंह राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

सिंह राशि (Leo) का स्वामी ग्रह सूर्य है। इसलिए, माणिक या रुबी रत्न सिंह राशि के लिए अधिक उपयुक्त माना जाता है क्योंकि यह सूर्य का प्रतिनिधित्व करता है।

पन्ना (Emerald) रत्न बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, जो वाणी, व्यापार, विद्या, और यात्रा के संकेत स्वरूप होता है। यह रत्न मिथुन और कन्या राशि के जातकों के लिए अधिक उपयुक्त होता है।


कन्या राशि
पन्ना रत्न के फायदे

कन्या राशि वालों के लिए पन्ना पहनना अच्छा माना जाता है, क्योंकि बुध इस राशि का स्वामी ग्रह होता है। यह बुद्धि और संचार क्षमता में सुधार कर सकता है और धन समृद्धि को बढ़ावा दे सकता है।

हालांकि, किसी भी रत्न को पहनने से पहले, एक अनुभवी ज्योतिषी की सलाह जरूर लें, क्योंकि रत्नों के प्रभाव व्यक्तिगत कुंडली और जीवन परिस्थितियों पर आधारित होते हैं।


तुला राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

तुला रशि का स्वामी ग्रह शुक्र होता है, जबकि पन्ना बुध ग्रह का रत्न होता है। पन्ना, विचारशीलता, तत्परता, और आत्मविश्वास में सुधार करने में मदद करता है, जो तुला राशि के जातकों के लिए उपयोगी हो सकता है।

लेकिन, किसी भी रत्न को पहनने से पहले, यह अत्यंत आवश्यक है कि आप एक योग्य ज्योतिषी या रत्न विशेषज्ञ से सलाह लें। यह क्योंकि अलग-अलग व्यक्तियों के जन्म कुंडली और ग्रहों की स्थिति अलग-अलग होती हैं, और किसी विशेष रत्न का प्रभाव उनके ऊपर व्यक्तिगत रूप से परिवर्तित हो सकता है। इसलिए, कृपया अपने व्यक्तिगत परिस्थितियों और जन्म कुंडली के आधार पर विचार करें। 


वृश्चिक राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

वृश्चिक राशि का स्वामी ग्रह मंगल है, और बुध ग्रह के साथ इसका अच्छा सम्बन्ध नहीं होता है। इसलिए, वृश्चिक राशि के लोगों के लिए पन्ना पहनना सामान्यतः अनुशासित नहीं होता है। फिर भी, यदि कोई व्यक्ति बुध ग्रह को मजबूत करना चाहता है, तो उन्हें अपनी कुंडली के अनुसार एक ज्योतिषी की सलाह लेनी चाहिए।

यदि बुध ग्रह कुंडली में अच्छी स्थिति में है और व्यक्ति के लिए लाभदायक हो, तो पन्ना पहनना उनके लिए उपयोगी हो सकता है। लेकिन यदि बुध ग्रह कुंडली में अशुभ स्थिति में है, तो पन्ना पहनने से नकारात्मक प्रभाव हो सकते हैं।


धनु राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

पन्ना (या एमराल्ड) रत्न बुध ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है, जो बुद्धि, संवाद, व्यापार और वाणी को प्रभावित करता है। यदि बुध ग्रह धनु राशि के जातक के जन्म चार्ट में सकारात्मक स्थान पर है, तो पन्ना रत्न धारण करने से लाभ हो सकता है।

फिर भी, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि रत्न धारण करने से पहले किसी अनुभवी और विश्वसनीय ज्योतिषी से सलाह लेना अत्यंत आवश्यक है। 


मकर राशि
पन्ना रत्न के फायदे

पन्ना यानी एमराल्ड, बुध ग्रह का प्रतिष्ठित रत्न होता है। बुध ग्रह की स्थिति और शक्ति के अनुसार इसका प्रभाव व्यक्ति की जिंदगी पर होता है। यदि मकर राशि के जातक की कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति अच्छी है और वे विशेष रूप से बुध की महदशा या अन्तर्दशा में हैं, तो पन्ना पहनना उनके लिए उपयोगी हो सकता है।

यदि बुध ग्रह अशुभ स्थिति में है, तो पन्ना पहनने से पहले एक योग्य ज्योतिषी की सलाह लेनी चाहिए। पन्ना का प्रयोग कई तरह से फायदेमंद हो सकता है।


कुंभ राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

कुंभ राशि (Aquarius) के जातकों के लिए पन्ना (Emerald) पहनना अच्छा माना जाता है, क्योंकि यह बुध ग्रह (Mercury) का प्रतीक होता है और यह उनके स्वास्थ्य, धन और व्यापारिक सफलता में सुधार कर सकता है।

हालांकि, कृपया यह सुनिश्चित करें कि आप एक ज्योतिषी से सलाह लेते हैं, जो आपकी कुंडली के आधार पर व्यक्तिगत सलाह दे सकता है। ज्योतिषी आपकी जन्म की विवरण, ग्रहों की स्थिति और उनके प्रभावों को विश्लेषित करेगा, और इसके बाद ही किसी भी रत्न की सलाह देगा।


मीन राशि 
पन्ना रत्न के फायदे

मीन राशि (Pisces) का स्वामी ग्रह बृहस्पति है। Emerald बुध ग्रह (Mercury) का प्रतिष्ठित रत्न है।

आमतौर पर, मीन राशि के जातकों को पन्ना धारण करने की सलाह नहीं दी जाती है क्योंकि यह बुध ग्रह का प्रतिष्ठित रत्न है, और बृहस्पति (जो मीन राशि का स्वामी ग्रह है) और बुध ग्रह एक-दूसरे के द्वेषी होते हैं।


एक विशेष जानकारी –  मैं सभी पाठकों से यही कहना चाहूँगा कि यदि आप किसी भी रत्न को धारण करना चाहते है तो इससे पहले किसी भी अनुभवी ज्योतिष आचार्य से पूंछ लें उसके बाद ही रत्न धारण करें।  


पन्ना रत्न असली तथा नकली होना । How to know If Emerald is Real?

अगर हम असली पन्ना कि बात करें तो यह बहुत मुलायम तथा टिकाऊ होता है। इस रत्न में कार्बन के मिश्रण की वजह से इसकी बाहरी स्तरों पर काले धब्बे होते है। इस रत्न को पहचानने के ये सबसे आसान तरीके है, क्योंकि जो नकली पन्ना होता है वह बहुत कठोर होता है। इस रत्न की बाहरी स्तरों पर कुछ दरारें सी होती है लेकिन इन दरारों की वजह से इस panna ratna की गुड़वत्ता पर कोई असर नहीं पड़ता है। अगर आप असली या नकली पन्ना की पहचान करना चाहते है तो नीचे दिए हुए बिंदुओं को ध्यान पूर्वक पढ़ें। 

  • यदि असली पन्ना को हम लेते है और अपनी आंख के उपर रखे तो इस रत्न से हमारी आंख को बहुत ठंडक महसूस होती है। लेकिन यदि पन्ना रत्न नकली है तो इसमें हमे गर्माहट महसूस होती है। 
  • अगर हम असली पन्ना को किसी कांच के बर्तन में पानी भरकर इस रत्न को उसमे डालते है तो उस रत्न में से निकलने वाली तरंगों में हमें विकिरण देखने को मिलता है। लेकिन नकली पन्ना में हमें ऐसा कुछ भी देखने को नहीं मिलता है। 
  • अगर हम असली पन्ना के ऊपर कोई पानी की बूंद रखे तो वह एक जगह स्थित रहती है। जबकि नकली पन्ना में पानी की बूंद बिखर जाती है।

हमेशा से DsK Astrology ( ऑनलाइन ज्योतिष परामर्श ) के ज्योतिष आचार्य दीपांशु जी असली और प्रमाणित रत्न उपलब्ध कराते है। अगर आप किसी भी रत्न को खरीदना चाहते है तो आप हमारी वेबसाइट के माध्यम से खरीद सकते है। हमारे यहां उपलब्ध कराए जाने वाली रत्न 100% शुद्ध होते हैं। यह भी हम सुनिश्चित करते है।

हमारे यहां मिलने वाला हर रत्न ( Emerald ) लैब द्वारा प्रमाणित और निश्चित आकार का होता है। हमारे यहां सभी रत्नों कि क्वालिटी चेक होने के बाद ही कस्टमर को दिया जाता है। हमारे पास पन्ना रत्न [ Emerald ] की सही कीमत तथा असली और बाजार के रेटों से कम कीमत में मिलता है। हम आशा करते हैं कि आप हमारे यहां से असली व प्रमाणित रत्न आसानी से ले सकते हैं।


पन्ना रत्न का विकल्प उपरत्न । Substitute of Panna Ratna

पन्ना रत्न ( Emerald ) एक ऐसा रत्न है। जिसकी बाजार में कीमत बहुत अधिक है इसलिए कभी कभी बहुत से व्यक्ति इस पन्ना रत्न को खरीद नहीं पाते कभी कभी क्या होते है व्यक्ति खरीद लेता है अगर तो वह नकली होता है या फिर उसने कोई ना कोई कमी होती है इसलिए इस रत्न के जैसे दिखने वाले इसके उपरत्न जो व्यक्ति आसानी से के सकता है इनकी कीमत भी कम होती है और ये बाजार में आसानी से मिल भी जाते है। कुछ पन्ना रत्न ( Emerald) के उपरत्न जिनके नाम कुछ इस प्रकार है। 

  1. हरा बैरूज
  2. ओनेक्स
  3. मरगज

इस पन्ना रत्न के उपरत्नों में सबसे ज्यादा प्रभावशाली एवं शाक्तिशाली उपरत्न मरगज ही है । ये ऐसे उपरत्न होते है जिन्हें व्यक्ति आसानी से खरीदकर पहन सकता है। ये बाजार में आसानी से मिल जाते है लेकिन सिर्फ रत्न खरीद के पहन लेने से कुछ नहीं होता क्योंकि रत्न को जागृत करना भी बहुत ज़रूरी है जो सिर्फ एक अच्छा ज्योतिषी ही कर सकता है । 


पन्ना रत्न से साबधानियां । Cautions of Emerald

पन्ना यानि एमराल्ड एक बहुत ही सुंदर और मूल्यवान रत्न है, लेकिन इसे खरीदते और धारण करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  1. सत्यापन: एमराल्ड खरीदते समय सुनिश्चित करें कि आप विश्वसनीय विक्रेता से खरीद रहे हैं जो आपको उचित प्रमाण पत्र प्रदान कर सकते हैं जो इसकी गुणवत्ता और वास्तविकता की पुष्टि करते हैं।
  2. सावधानी से रखें: एमराल्ड ठोस पदार्थों और उच्च तापमान से प्रभावित हो सकते हैं। उन्हें उच्च तापमान, अचानक तापमान के परिवर्तन और अत्यधिक ठंड से दूर रखने की जरूरत होती है।
  3. सफाई: एमराल्ड की सफाई करते समय ध्यान दें। केमिकल क्लीनर्स, सोप और अन्य कठिन पदार्थों से दूर रखें। सामान्यत: नर्म ब्रश और गर्म पानी का उपयोग करें।
  4. धारण करने की सीमाएँ: पन्ने को निरंतर धारण न करें। इसे जब भी आप भारी शारीरिक गतिविधियों, स्नान, स्विमिंग पूल या जैकूज़ी, या नींद के समय उतार दें।
  5. भाग्य और ग्रहों का प्रभाव: कुछ लोग मानते हैं कि एमराल्ड या पन्ना बुध ग्रह को प्रशांत करने में मदद कर सकता है। यदि आप ज्योतिष में विश्वास रखते हैं, तो एमराल्ड खरीदने और पहनने से पहले एक विश्वसनीय ज्योतिषी से परामर्श करना सुनिश्चित करें।
  6. आभूषण का चयन: एमराल्ड को अक्सर अंगूठी, कड़ी, हार और बाली में पाया जाता है। हालांकि, इसकी कमजोरी के कारण, यह अंगूठियों में ध्यानपूर्वक पहना जाना चाहिए। यह आमतौर पर हार और कड़ाईयों में अधिक सुरक्षित होता है।