ज्योतिष शास्त्र के 27 नक्षत्र – नक्षत्र लाभ फल विशेषताएँ

नक्षत्र लाभ फल विशेषताएँ

नक्षत्र लाभ फल विशेषताएँ

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार आकाश में दिखने वाले तारों के समुदाय को नक्षत्र कहते हैं। ज्योतिषीय मतानुसार किसी भी जातक के जन्म समय और भविष्य का वर्णन करने के लिए नक्षत्र का ही सबसे महत्वपूर्ण योगदान होता है।

पौराणिक कथाओं के माध्यम से भी नक्षत्र ज्ञान का वर्णन किया गया है। जातक के जीवन में नक्षत्र सकारात्मक और नकारात्मक बदलाव करने की भी क्षमता रखते हैं। यही कारण है नक्षत्रों से मेल रखने वाले ग्रहों को मजबूत करने के लिए जातक पूजा-पाठ, हवन, व्रत आदि करता है। शास्त्रों के अनुसार नक्षत्रों की संख्या 27 निर्धारित की गई है।


ज्योतिष परामर्श के लिए यह फार्म भरें


यह एक दम मुफ्त जानकारी है। यह लेख को आप लगन नक्षत्र , जन्म चन्द्र नक्षत्र या किसी भी ग्रह के नक्षत्र को समझने के लिए उपयोग कर सकते हैं। 27 नक्षत्र के नाम कुछ इस प्रकार हैं।

अश्विनी नक्षत्र भरणी नक्षत्र कृत्तिका नक्षत्र
रोहिणी नक्षत्रमृगशिरा नक्षत्रआर्द्रा नक्षत्र
पुनर्वसु नक्षत्र पुष्य नक्षत्रअश्लेषा नक्षत्र
मघा नक्षत्रपूर्वा फल्गुनी नक्षत्रउत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र
हस्त नक्षत्रचित्रा नक्षत्रस्वाति नक्षत्र
विशाखा नक्षत्रअनुराधा नक्षत्रज्येष्ठा नक्षत्र
मूला नक्षत्रपूर्वाषाढ़ा नक्षत्र उत्तराषाढा नक्षत्र
श्रवण नक्षत्रधनिष्ठा नक्षत्रशतभिषा नक्षत्र
पूर्वाभाद्रपद नक्षत्रउत्तरभाद्रपद नक्षत्ररेवती नक्षत्र

वैदिक शास्त्र में नक्षत्र का महत्व

वैदिक शास्त्र के अनुसार 27 नक्षत्रों को दक्ष प्रजापति की पौत्रियों के नाम से जाना जाता है। वैदिक शास्त्र के मतानुसार इन नक्षत्रों का विवाह सोमदेव अथवा चन्द्र देव के साथ हुआ था। चंद्रमा को 27 नक्षत्रों में सबसे प्रिय नक्षत्र रोहिणी नक्षत्र है, जिसके कारण चंद्रमा को श्राप भी मिला था। अगर देखा जाए तो वैदिक काम में नक्षत्रों का अपना एक अलग ही रुतबा रहा है। 

पौराणिक कथाओं के अनुसार ऋषि मुनियों ने आकाश को 12 भागों में बांट दिया था, जिसके कारण हमें 12 राशियाँ प्राप्त हुई वो कुछ इस प्रकार है- मेष, वृषभ, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुम्भ, मीन। इन्हे और छोटे भागों में बाटने के लिए उन्होने 27 भागों में विभाजित कर दिया। जिसके बाद एक राशि में 2.25 नक्षत्र आता है।

अगर चंद्रमा को प्रथ्वी के चक्कर लगाने का समय देखा जाए तो वह 27.3 दिन होता है। ज्योतिषीय मतानुसार चंद्रमा हर दिन लगभग एक नक्षत्र की यात्रा करता है जिसे भाग भी कहते हैं। वैदिक ज्योतिष शास्त्र में किसी भी जातक की कुंडली का विश्लेषण करने के लिए नक्षत्र का उपयोग किया जाता है।

हम किसी भी जातक की मानसिक शक्ति, उसकी सोच और उसके जीवन के बारे में जानने के लिए नक्षत्र की मदद लेते हैं, जिससे हमे आसानी से पता चल जाता है। जातक की दशा बताने में भी नक्षत्र मददगार साबित होता है, परंतु नक्षत्र पंचांग भी सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है।

ज्योतिष शास्त्र में किसी भी जातक के जीवन की भविष्यवाणी करने के लिए नक्षत्र की ही मदद ली जाती है। भारतीय ज्योतिषियों के अनुसार नक्षत्र को चंद्र महल भी कहा जाता है। 


नक्षत्र एवं राशि में भिन्नता

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर आसमान को 12 भागों में बांटा जाए तो निकालने वाले सभी 12 भाग राशि कहलाती हैं। ठीक इसी प्रकार अगर आसमान को 27 भागों में बांटा जाए तो निकालने वाले सभी 27 भाग नक्षत्र कहलाते हैं।

ज्योतिषीय मतानुसार नक्षत्र कैसे जाने – आसमान 360 डिग्री का होता है, ठीक इसी प्रकार अगर हम 360 डिग्री को 12 अलग-अलग भागों में बाटे तो एक भाग 30 डिग्री का हुआ। इसीलिए एक राशि 30 डिग्री कि होती है।अगर 27 नक्षत्रों को भी 360 डिग्री के अलग-अलग भागों में बांटा जाए तो एक भाग 13.33 डिग्री का निकलेगा यानि एक नक्षत्र 13.33 डिग्री का होता है।

यही कारण होता है नक्षत्र राशि में भिन्नता का क्योंकि इसी गड़ना के आधार पर राशियाँ 12 और नक्षत्र 27 निकल कर आते हैं। अब अगर नक्षत्र और राशि में छोटे-बड़े कि भिन्नता देखी जाए तो नक्षत्र छोटा और राशि बड़ी क्योंकि एक राशि में 2.25 नक्षत्र आते है।


ज्योतिष में नक्षत्र ज्ञान 

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बताया गया है कि जब किसी जातक का जन्म होता है और उस जन्म समय में चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है वही नक्षत्र जातक का जन्म नक्षत्र माना जाता है। यदि किसी जातक के जन्म नक्षत्र कि सही और सटीक जानकारी हो तो उस जातक के जीवन कि सटीक और एक दम सही भविष्यवाणी कि जा सकती है।

इसीलिए नक्षत्रों का ज्ञान होना बेहद आवश्यक माना गया है क्योंकि आपके नक्षत्रों कि सही गणना ही आपको सही फायदा दे सकता है। ठीक उसी प्रकार आप अपने नक्षत्र कि सही जानकारी लेकर अपने जीवन में नकारात्मक दोषों को कम करने के मंत्र अथवा उपाय निकाल सकते हैं।

भारतीय ज्योतिष के माध्यम से जब किसी जातक जातिका का विवाह होता है तब उनके बेहतर वैवाहिक जीवन के लिए कुंडली मिलान किया जाता है और कुंडली मिलान करते समय भी नक्षत्र को सबसे अधिक महत्वता दी जाती है। 


27 नक्षत्र
27 नक्षत्र
27 नक्षत्र